इतनी कटुता...? इतनी घृणा...?

प्रभाष जोशी जी के निधन की खबर दिल्ली से प्रकाशित होने वाले एक तथाकथित राष्ट्रीय अखबार में नहीं छपी. इतनी कटुता...? इतनी घृणा...? अरे भाई, आदमी हमेशा के लिए चल बसा. अब तो दुराग्रह से मुक्त हो जाओ सम्पादकजी...अपनी इसी ओछी मानसिकता के कारण कुछ संपादक मालिक के अच्छे नौकर तो बने रहते है लेकिन वे पत्रकारिता के कलंक ही माने जाते है. प्रभाष जोशी का अचानक ऐसे चला जाना उन लोगों के लिए दुखद घटना है जो पत्रकारिता को मिशन की तरह लेते थे और वैसा व्यवहार भी करते थे। जोशी जी के जाने के वाद अब लम्बे समय तक दूसरा प्रभाष जोशी पैदा नहीं होगा। राजेंद्र माथुर जी के जाने के बाद प्रभाष जोशी ने उनके रिक्त स्थान को जैसे भर दिया था। एक नए तेवर, नई दृष्टि के साथ हिंदी पत्रकारिता को उन्होंने एक ऐसा मोड़ दिया, जैसा पहले किसी ने नहीं दिया था। READ MORE....

11 टिप्‍पणियां:

  1. ओछी राजनीती पत्रकारिता में यहाँ तक पैठी है की पत्रकार स्वाभाविक शिष्टाचार ही भूलने लगे हैं जो लोकतान्त्रिक व्यवस्था के मजबूत और आवश्यक अंग या औजार माने जाते रहे है ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. देखा मरने से डर गया नवभारत टाइम्‍स इसलिए आज पेज नंबर 12 पर सिंगल कॉलम की एक खबर छाप ही दी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. घटिया मानसिकता, ओछी पत्रकारिता, चाटुकार सम्पादक…

    उत्तर देंहटाएं
  4. असल में ये पत्रकार ही नहीं हैं, अखबार निकालकर स्‍वयं का विज्ञापन करते हैं या फिर स्‍वयं के लोगों का। खबरों से इनका कोई लेना देना नहीं है। व्‍यक्तिगत दुश्‍मनी से चलते हैं ये लोग।

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्या करोगे भाई. महान पत्रकार प्रभाष जोशी की कीमत ऐसे लोग नही समझेगे. इन्हे तो देश के चाटूकारो,दलालो...से मतलब है. घीन आती है ऐसे अखबारो और उसके मालिक-सम्पादको पर.

    उत्तर देंहटाएं
  6. समाचार पत्रो मै आज समाचार होते ही कहा है , यह सब बिक गये है ओछी राजनीती ओर घटिया नेतओ के हाथो.....

    उत्तर देंहटाएं
  7. ye bhi hota hai janaab.........
    PAPPUON ki kami nahin is SANSAAR men. (ya kahen ki JAG men JUG men)

    उत्तर देंहटाएं
  8. कोई मसखरा या भांड मरता है तो भी खबर बना लेते हैं ऐसे लोग मगर एक बेमिसाल संपादक की चले जाना शायद उन्हे खबर नही लगी।पत्रकारिता का सबसे काला अध्याय है ये।

    उत्तर देंहटाएं
  9. समाचार पत्रों के माध्यम से अपनी गठरी भरने में लगे ऐसे लोगों का कुछ नहीं हो सकता। ऐसे लोगों को प्रभाष जी के महत्व का अन्दाजा भी नहीं होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  10. भाई क्या कहूं, परन्तु प्रोफ़ेसनल प्रतिद्वंदिता को निजी नहीं करना चाहिए ।

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने के लिए धन्यवाद
लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

 
Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz