बढ़े रेट पेट्रोल के, नीलकंठ पी जाँय ।

Posted on
  • by
  • रविकर
  • in
  • Labels: ,
  • बढ़े रेट पेट्रोल के, नीलकंठ पी जाँय ।
    निगल-उगल सकते नहीं, सारा बदन तपाय ।।

    अभिसार ने अपने ब्लॉग पर टिप्पणी के लिए आमंत्रित किया  ।
    उन के बनाये चित्र और उनके परिचय सहित मेरी टिप्पणी --

    7 टिप्‍पणियां:

    1. घर पर पूछ कर आए हो.... कि नुक्‍कड़ पर शरारतें करने जा रहा हूं...

      उत्तर देंहटाएं
    2. पेट्रोल के बढे भावों पर तमाचा जडती पंक्तियां! अति सुन्दर!

      उत्तर देंहटाएं
    3. Very nice post.....
      Aabhar!
      Mere blog pr padhare.

      उत्तर देंहटाएं
    4. क्या बात है...बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz