दिल्‍ली ब्‍लॉगर मिलन : सबको प्रसन्‍न देख कर प्रसन्‍न हूं (अविनाश वाचस्‍पति)

Posted on
  • by
  • अविनाश वाचस्पति
  • in
  • Labels: ,
  • सबकी खुशी में अपनी खुशी।

    न यहां पर कोई चित्र है
    न यहां पर कोई पोस्‍ट है
    बस दे रहा हूं लिंक सभी
    जिससे सब पढ़ें दिल से।
    अजय कुमार झा
    आज अजय जी के ही चर्चे और धूम है
    देख पढ़ कर मिल कर सब रहे झूम हैं

    यशवंत मेहता

    लोग करते हैं काल मिस या मिस काल
    यशवंत जी ने लंच मिस करके कर दिया कमाल।


    विनोद कुमार पांडेय


    कविता कहते हैं अब खरी खरी
    जरा नहीं डरते हैं
    लोग हंसेंगे पेट भर के
    तो सो जायेंगे
    फिर टिप्‍पणी कैसे आप पायेंगे।

    सतीश सक्‍सेना


    खर्चे की ही रही सोचते, खा भी नहीं पाए
    जाना चाहते थे आजाद भवन में जा भी नहीं पाए
    फिर भी खूब पाया और खूब खाया
    जानना चाहते हैं तो सतीश सक्‍सेना से मिल आएं।


    एम वर्मा

    वर्मा जी ने तो मचा दिया धमाल
    सबसे बाद में पहुंचे थे वे
    पर चित्र उनके धुल कर
    सबसे पहले सूख गए।

    अजित वडनेरकर

    राजकमल से छप रहा है शब्‍दों का सफर
    पुस्‍तक मेले में मित्रों का मिलना।

    डॉ. टी एस दराल

    मिलने की चाह खींच कर ले आई डॉक्‍टर साहब को
    और वे चित्र हमारे खींच कर इतने ले गए
    जीत गए वे और हम हार कर भी खुश हो गए।

    कविता वाचक्‍नवी


    पसंद चटकाना आपका अधिकार है
    और आपकी राय जानना हमारा।

    मानस के मोती की सदस्‍यता ग्रहण कीजिए और प्रसन्‍न रहिये। सदस्‍यता लेने के लिए इस पेज में सबसे नीचे जाकर अपना ई मेल पता भर के नि:शुल्‍क सदस्‍यता उपलब्‍ध है। सदस्‍यता लेने वालों को दैनिक टिप्‍पणी की सुविधा उपलब्‍ध करवाई जायेगी। दैनिक टिप्‍पणी पाने के लिए एक पोस्‍ट नियमित रूप से प्रतिदिन लगानी होगी। जो चाहें, हमें जरूर बतलायें।

    19 टिप्‍पणियां:

    1. आज तो बस सबसे मिले और जबसे घर आये बस "दिल्ली ब्लोगर मीट" के बारे में ही पढ रहें है, वाकई सब बहुत खुश है, अजय जी की तो जितनी तारीफ़ करी जाये कम है, आपके साथ रह कर भी बहुत कुछ जाना, बहुत बहुत शुभकामनायें

      उत्तर देंहटाएं
    2. अब क्या कहें, पढ़ कर ही वहां के हाल जान सकते हैं।

      उत्तर देंहटाएं
    3. मैं भी सबको प्रसन्न देख...प्रसन्न हूँ...

      उत्तर देंहटाएं
    4. congratulations 4 success of blogger's Meet at Delhi....
      MAHAVEER B. SEMLANI

      उत्तर देंहटाएं
    5. वाह वाह!! प्रसन्नता बनी रहे महाराज!! आप हो जहाँ, प्रसन्नता है वहाँ.

      उत्तर देंहटाएं
    6. बस ऐसे ही हँसी खुशी चलती रहे यह यात्रा...एक अनोखा स्नेह का बंधन है जो और मजबूत होता जा रहा है..

      उत्तर देंहटाएं
    7. महफूज भाई अगली बार सबको देख कर प्रसन्न नही होना बल्कि सबके साथ होना है..

      उत्तर देंहटाएं
    8. मन प्रसन्न हुआ।

      चाहते हुए भी अपने न आ पाने पर, अफ़सोस है।
      अब तो केवल कसमसा सकता हूँ :-)

      खैर, अगली बार फिर कभी

      बी एस पाबला

      उत्तर देंहटाएं
    9. महफूज़, दीपक, पाबला जी, द्विवेदी जी, आप लोग भले ही न आ पाए हों लेकिन दिल में तो सबके हैं।
      फिर सही।
      अविनाश जी , मिलने की प्यास और आस बनी रहे , तो क्या कहने।

      फिलहाल तो इतना ही की इस मुलाकात में सिर्फ और सिर्फ आनंद था , और आने वाली होली की मस्ती थी ।

      उत्तर देंहटाएं
    10. दिलवाले ब्लागरों से दिल्ली मे नही मिल पाने का हमेशा अफ़सोस रहेगा।खैर फ़िर कभी आयेंगे और सबसे मिल लेंगे,इतनी जल्दी टपकने वाले पके हुये आम नही है हम्।

      उत्तर देंहटाएं
    11. मैं तो अभी, लखनऊ पहुँच कर भी शायद अपना दिल, दिल्ली में ही छोड़ आया. आप लोगों का स्नेह मुझे यहाँ ज्यादा टिकने नहीं देगा. जल्द आऊँगा.
      हाँ, बिन बुलाए को इतना प्यार देने का शुक्रिया.

      उत्तर देंहटाएं
    12. @ सर्वत एम.

      बिन बुलाया कोई नहीं है
      पूरे जग को खुला आमंत्रण सदा है रहा
      देते हुए विदा सबका दिल दुखता है सदा
      आपसे जो हमारी शिकायत है
      आप जानते हैं
      मुझे मालूम है अगली बार
      आप शिकायत का मौका नहीं देंगे।

      उत्तर देंहटाएं
    13. हम भी प्रसन्न हुए आपको और आपके दिये गये लिंक्स वाले ब्लोग पढ़कर!

      उत्तर देंहटाएं
    14. Khoob badhiya link saheje hain. ab anchhape chitron ki farmayish hai bas. in links par lagaye gaye chitra hum ghar ja kar sahej lenge.
      Thanks.

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz