सरहद तक आंगन है

POST NO. 18

WISHING YOU ALL A VERY VERY HAPPY INDEPENDENCE DAY

सरहद तक आंगन है

हम धरती के फूल, गगन पावन माटी चन्‍दन है,

देश एक परिवार हमारा,सरहद तक आंगन है।

सतरंगे सुमनों की शोभा , सब धर्मों की क्‍यारी,

मानवता की महक सभी में देश एक फुलवारी।

नाचें, गायें, खेलें, कूदें , भरें सभी किलकारी,

इस माटी को नमन करें, है जो प्राणों से प्‍यारी।

द्वेष,घृणा या लोभ सरीखे, भाव न मन में लायें,

कभी न मांगे, कभी न छीनें, पौरुष से उपजाएं।

श्रम आधार और समता ही जीवन शैली होगी,

कभी न हम से,मानवता की चादर मैली होगी।

ऐसा दृढ़ संकल्‍प हमारा , जीवन में अपनायें,

सबके लिए खुशी-खुशहाली इस जगती पर लाएं।

(1986)

=========================================

BY: From the desk of MAVARK

7 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. http://shama-shamaneeraj-eksawalblogspotcom.blogspot.com/

    Behad sundar rachna..! Waah..15 august kaa tohfa mil gaya!

    उत्तर देंहटाएं
  3. स्वतंत्रता दिवस की बहुत शुभकामनायें .!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. ये आँगन हमेशा बना रहे..इसमे कोई गैर ना दस्त-अंदाज़ रहे!
    आज़ादी मुबारक हो !
    बेहद सुंदर रचना !

    http://shamasansmaran.blogspot.com

    http://kavitasbyshama.blogspot.com

    http://shama-baagwaanee.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. आज़ादी की 62वीं सालगिरह की हार्दिक शुभकामनाएं। इस सुअवसर पर मेरे ब्लोग की प्रथम वर्षगांठ है। आप लोगों के प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष मिले सहयोग एवं प्रोत्साहन के लिए मैं आपकी आभारी हूं। प्रथम वर्षगांठ पर मेरे ब्लोग पर पधार मुझे कृतार्थ करें। शुभ कामनाओं के साथ-
    रचना गौड़ ‘भारती’

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने के लिए धन्यवाद
लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

 
Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz