पैरों को चादर मत ओढ़ाओ : दैनिक मिलाप हिंदी दिनांक 12 अगस्‍त 2013 में प्रकाशित


1 टिप्पणी:

  1. अच्छी कविता. लेकिन इमेज थोड़ी बड़ी वाली लगाइए.. पढने में आँख का पावर कम हो गया ;)

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने के लिए धन्यवाद
लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

 
Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz