हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग के चिट्ठाकार इन पंक्तियों को कविता समझने और तुक तलाशने की जहमत मत करें : कहीं इस चक्‍कर में नीचे न गिर जाएं



लोग ख्याति से क्‍यों इतना जलते हैं
अपने कदम उनसे जरा न संभलते हैं

करते-कहते हैं उल्‍टा सीधा उटपटांग
बतलाते हैं सामने वाले को ही रांग

जंग करते हैं वह बिना पिए भंग
फिर भी कलुषित ही बहते हैं रंग

रहते हैं संग उनके फिर भी अच्‍छे नहीं ढंग
मन में उठती है विकृत विचारों की तरंग

बाबा पर करते हैं शक बे-वजह आंख मूंद
बाबा से लिपटते हैं देकर धन जैसे फफूंद

करते हैं सच में पैदा इतनी कलह
मन में शांति के लिए रहे न जगह

चढ़ना चाहते हैं कूद कूद कर सीढ़ी
बने साहित्‍यकार उनकी अगली पीढ़ी


संदेश ब्‍लॉगवासियों के लिए : याद रहे ऊपर ले जाने वाली सीढ़ी नीचे भी लाती है। 


8 टिप्‍पणियां:

  1. बाबा पर करते हैं शक बे-वजह आंख मूंद
    बाबा से लिपटते हैं देकर धन जैसे फफूंद

    करते हैं सच में पैदा इतनी कलह
    मन में शांति के लिए रहे न जगह
    ..haalat hi kuch aise nazar aate hai aajkal..
    sateek samyik prastuti..

    उत्तर देंहटाएं
  2. ई वाली कविता भी बड़ी बोल्ड है,सीढी की चढ़ाई और 'बोल्ड' !

    उत्तर देंहटाएं
  3. अरे आपने कविता ही बनाई है ये:)

    उत्तर देंहटाएं
  4. आज 15/04/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर (सुनीता शानू जी की प्रस्तुति में) लिंक की गया हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. करते-कहते हैं उल्‍टा सीधा उटपटांग
    बतलाते हैं सामने वाले को ही रांग
    इसी को कहते है समझदारी :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. यह टिप्पडी भी तो बिना अर्थ समझे ही कर रहा हूँ
    बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  7. आदरणीय अविनाशजी,
    फ़ोन पर आज ही आपसे बात कर मुझे बहुत अच्छा लगा। नुक्कड में शामिल होने का निमंत्रण का ई मेल भी मिल गया है।
    मुझे आपसे परामर्श चाहिये। मेरे सभी चिकित्सा आलेख अर्जुनलाल जाट नामक व्यक्ति ने अपने नाम से अपने ब्लाग पर डाल दिये हैं। इन्टरनेट के कानून कायदे के अनुसार मैं इस विषय में क्या कर सकता हूं? परामर्श देने की कृपा करेंगे।

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने के लिए धन्यवाद
लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

 
Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz