पहचानने का करते हैं प्रयास, चाहे न हो कोई बिल्‍कुल खास

Posted on
  • by
  • अविनाश वाचस्पति
  • in
  • Labels: , ,
  • क्‍या सिर्फ कविता की व्‍याख्‍या की जा सकती है
    मुझे तो ऐसा नहीं लगता है
    और कहा भी गया है
    एक चित्र दस शब्‍द हजार शब्‍दों से अधिक
    स्‍वरों को मुखर करता है
    तो कहिए खरी खरी
    सामने बिठाकर बैठ जाइए दरी
    देखिए भांपिए, अपनी निगाहों से आंकिए
    और शब्‍दों में ढालिए कि इसमें ढाल नहीं है
    तलवार यह दोधारी है
    इसमें दूसरी ओर कलम निकाली है
    अब कहने-लिखने की आपकी बारी है।

    4 टिप्‍पणियां:

    1. सार्थक ,सामयिक पोस्ट , आभार

      उत्तर देंहटाएं
    2. तलवार चाहे दोधारी है
      कलम उसपर भारी है ...

      उत्तर देंहटाएं
    3. कलम की तलवार सदा ही भारी
      देत्य , दुष्ट या हो कैसा भी अप्राधकारी

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz