राह कौन सी जाऊं मैं, फेसबुक पर लगाऊं दुकान ....

Posted on
  • by
  • अविनाश वाचस्पति
  • in
  • Labels: , , ,
  • राह कौन सी जाऊं मैं
    दीपावली मनाऊं या
    फेसबुक पर बस जाऊं मैं
    यहीं पर खोल लूं दुकान
    विचारों के बनाकर पकवान
    सबको खूब खिलाऊं मैं
    राह कौन सी जाऊं मैं
    सुशील जोशी जी को बुलाऊं मैं

    उनसे पटाखे चलवाऊं मैं
    अमित त्‍यागी जी से कटवाऊं चालान
    बम फटने पर उछल जाऊं मैं
    राह कौन सी जाऊं मैं
    फेसबुक पर बस जाऊं मैं

    कहो तो सो जाऊं यहीं
    या सोने के लिए
    बिस्‍तर अलग लगाऊं मैं
    आप कहें तो बिस्‍तर
    यहीं पर बिछाऊं मैं
    राह कौन सी जाऊं मैं

    नगर कवियों का यहीं पर
    सुनहरा भाव नगर बसाऊं मैं
    राह कौन सी जाऊं मैं

    दीपावली की दूं शुभकामनाएं
    दीपावली पर लूं शुभकामनाएं
    शुभकामनाओं का अंबार लगाऊं मैं
    राह कौन सी सजाऊं मैं

    11 टिप्‍पणियां:

    1. नुक्कड़ पर ला कर कान में बहुत धीमे से तो बोलिये।
      दीपावली की शुभकामनाऎं देने में शब्दों को ना तोलिये।
      इतनी सुंदर कविता से अगर दीपावली मनायेंगे
      सारी लक्ष्मियों को बैंक में नहीं नुक्कड़ पर पायेंगे ।

      उत्तर देंहटाएं
    2. राह कौन सी जाऊं मैं
      दीपावली मनाऊं या
      फेसबुक पर बस जाऊं मैं
      @ आज तो दीवाली मनाने वाली राह ही जाईये :)

      दीपावली के पावन पर्व पर आपको मित्रों, परिजनों सहित हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएँ!

      way4host
      RajputsParinay

      उत्तर देंहटाएं
    3. चर्चा मंच परिवार की ओर से दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ!
      आइए आप भी हमारे साथ आज के चर्चा मंच पर दीपावली मनाइए!

      उत्तर देंहटाएं
    4. दीपावली पर्व अवसर आपको और आपके परिजनों पर को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं ....

      उत्तर देंहटाएं
    5. .. आपको भी दीपोत्‍सव की शुभकामनाएं !!

      उत्तर देंहटाएं
    6. ज्योति पर्व की बहुत -२ बधाईयाँ , सुन्दरसृजन को , सम्मान ....मंगलमय हो दीपावली ../

      उत्तर देंहटाएं
    7. दीपावली के पावन पर्व के अवसर पर आपको तथा आपके परिजनों व मित्रों को हार्दिक मंगलकामनायें...

      उत्तर देंहटाएं
    8. दीवाली की शुभकामनायें --यहीं लेकर जाइये ।
      हैप्पी दीवाली ।

      उत्तर देंहटाएं
    9. ज्योति पर्व की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं .

      उत्तर देंहटाएं
    10. सही कहा आपने यही उलझन मुझे भी रहती है|
      पर लगता है आप सभी साथ हो जाऊं मैं|
      सुन्दर प्रस्तुति... उलझने भी सुलझी हुयी|

      शुभकामनाएं!

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz