चौथे हरियाणा अंतर्राष्‍ट्रीय फिल्‍म समोराह का पहला दिन












4 टिप्‍पणियां:

  1. बुलेटिन के इस भव्‍य रूप स्‍वरूप में प्रकाशन के लिए मन से मेरी शुभकामनाएं फिल्‍म समारोह टीम के साथ हैं। मुझे खुद ही अपनी गैर मौजूदगी खल रही है परंतु अस्‍वस्‍थ न होता तो मैं अवश्‍य ही हाजिर होता। पर स्‍वास्‍थ्‍य पर इंसान का पूरा बस नहीं चलता है। फिर भी आप सबका कार्य नि:संदेह स्‍तुत्‍य है। कॉलेज की प्राचार्य डॉ. सुषमा आर्य की जितनी भी प्रशंसा की जाए कम ही है। यही बात मैं अजित राय के लिए भी कह रहा हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपके विचार पढकर हार्दिक प्रसन्नता हुई. आपके द्वारा हिंदी को अंतरजाल पर समृद्ध करने में दिया जा रहा योगदान अमूल्य है. क्या आप ब्लॉगप्रहरी के नये स्वरूप से परिचित है.हिंदी ब्लॉगजगत से सेवार्थ हमने ब्लॉगप्रहरी के रूप में एक बेमिशाल एग्रीगेटर आपके सामने रखा है. यह एग्रीगेटर अपने पूर्वजों और वर्तमान में सक्रिय सभी साथी एग्रीगेटरों से कई गुणा सुविधाजनक और आकर्षक है. उदाहरण स्वरूप आप यह परिचय पन्ना देखें उदहारण हेतू पन्ना . क्या आपको इससे बेहतर परिचय पन्ना कोई अन्य सेवा देती है. शायद नहीं ! यह हम हिंदी ब्लोगरों के लिए गर्व की बात है.

    इसे आप हिंदी ब्लॉगर को केंद्र में रखकर बनाया गया एक संपूर्ण एग्रीगेटर कह सकते हैं. मात्र एग्रीगेटर ही नहीं, यह आपके फेसबुक और ट्वीटर की चुनिन्दा सेवाओं को भी समेटे हुए है. हमारा मकसद इसे सर्वगुण संपन्न बनाना था. और सबसे अहम बात की आप यहाँ मित्र बनाने, चैट करने, ग्रुप निर्माण करने, आकर्षक प्रोफाइल पेज ( जो दावे के साथ, अंतरजाल पर आपके लिए सबसे आकर्षक और सुविधाजनक प्रोफाइल पन्ना है), प्राइवेट चैट, फौलोवर बनाने-बनने, पसंद-नापसंद..के अलावा अपने फेसबुक के खाते हो ब्लॉगप्रहरी से ही अपडेट करने की आश्चर्यजनक सुविधाएं पाते हैं. सबसे अहम बात , कि यह पूर्ण लोकतान्त्रिक तरीके से कार्य करता है, जहाँ विशिष्ट कोई भी नहीं. :)

    आपके ब्लॉग पर ब्लॉगप्रहरी का लोगो सक्रिय नहीं है. कृपया हमारी सेवाओं को अन्य हिंदी ब्लॉग पाठकों तक पहुँचाने में हमारी मदद करें. ब्लॉगप्रहरी का लोगो/विड्जेट आप इन पन्नों से प्राप्त करे सकते हैं.
    लोगो के लिए डैशबोर्ड पर जायें.
    आकर्षक विड्जेट के लिए यहाँ जायें.

    उत्तर देंहटाएं
  4. हमारे लिये यही काफी है, कि आप स्‍वस्‍थ रहें। यहां तो आप कभी भी आ जायेंगे। लेकिन आपकी कमी तो है ही।

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने के लिए धन्यवाद
लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

 
Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz