मिलन अभी आधा अधूरा है...

Posted on
  • by
  • सुनील वाणी
  • in
  • (सुनील)  http://www.sunilvani.blogspot.com/ 7827829555

    20 जनवरी को हुए ब्लॉग सम्मेलन में मुझे भी शामिल होने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। पहली बार मैं किसी ब्लॉग सम्मेलन में शामिल हुआ। इस सम्मेलन में मुझे एक खास अपनापन सा महसूस हुआ। हालांकि मैं सबों के लिए नया चेहरा था इस कारण मेरे और उनके बीच में कुछ दूरियां थीं और सबों से ठीक तरह मिल भी नहीं पाया। लेकिन उम्मीद करता हूं कि ये दूरियां आने वाले दिनों में इस तरह के कार्यशालाओं में लगातार शामिल होने से दूर हो जाएंगी। तब यह अपनापन और भी बढ जाएगा। वैसे ब्लॉग के प्रति लोगों का जज्बा देख कर दिल गदगद हो उठा, क्योंकि लोगों में ब्लॉग के प्रति उत्सुकता ही नहीं बल्कि इस ब्लॉग के जरिए काफी कुछ बदलने की ताकत भी देखा और यह निश्चित रूप से कहा जा सकता है कि आने वाले दिनों में यह ब्लॉग लोगों के लिए सशक्त माध्यम होगा जहां से हर व्यक्ति न केवल अपनी समस्याओं को उठा सकेगा बल्कि हर घर में प्रत्येक सदस्य अपने आप में पत्रकार होगा और पत्रकारिता को भी एक नया स्वरूप मिलेगा। आने वाले समय में यह विधा जन-जन से जुडे इसके लिए इस तरह के सम्मेलन और कार्यशाल का आयोजन काफी महत्वपूर्ण होगा। देश के कोने-कोने से लोग ब्लॉग को जाने और बडे स्तर पर मिलने जुलने का मौका मिले। प्रत्येक राज्य से ब्लॉग के प्रति लोगों का जुडाव हो और ये आधा अधूरा मिलन संपूर्ण रूप में बदल जाए। बस यही कामना है। धन्यवाद

    1 टिप्पणी:

    1. सुनील जी इसी तरह जान पहचान बढती है और सभी एक दूसरे से कुछ न कुछ सीखते हैं…………मैने भी पहली बार ही कार्यशाला ज्वाइन की थी और मेरा अनुभव भी सुखद रहा।

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz