मीडिया जब राडिया बन जाये, तो दु:ख होता है

Posted on
  • by
  • गुड्डा गुडिया
  • in
  • देश का ईमान बिकता है तो दु:ख होता है।
    गणतंत्र जब परतंत्र होता है तो दु:ख होता है।|

    को‍ठियां खूब बने देश में, कोई हर्ज़ नहीं।
    लोग फुटपाथ पर साते हैं, तो दु:ख होता है।|

    ब्रेडबटर, पिज्‍जा-बर्गर, मुबारक आपकी थाली में।
    पेट बांधकर कोई सोता है, तो दु:ख होता है।|

    कार्यपालिका, न्‍यायपालिका, विधायिका और आस्‍था भी अब।
    पर मीडिया जब राडिया बन जाये, तो दु:ख होता है।|

    प्‍याज काटने में आंसू आये तो मजा देते हैं।
    प्‍याज, बाजार में रूलाये, तो दु:ख होता है।|

    बेशक भुला दे मुझे वो, जो गैर है ‘तरूण’ |
    पर अपने भी याद न करें, तो दु:ख होता है।|

    Prashant dubey
    www.atmadarpan.blogspot.com

    2 टिप्‍पणियां:

    1. हकीकत बयानी के लिए बधाई और आभार .

      उत्तर देंहटाएं
    2. ब्रेडबटर, पिज्‍जा-बर्गर, मुबारक आपकी थाली में।
      पेट बांधकर कोई सोता है, तो दु:ख होता है।|

      sahi baat hai.

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz