हिन्‍दी साहित्‍य का स्‍वर्णिम काल है या शीशे का घर : आप क्‍या कहते हैं ?

मुझे क्लिक कर करके पढ़ सकते हैं
आप भी एक पत्‍थर मार कर देखिए
पर सचमुच का पत्‍थर मत उठा लीजिएगा
आपका मॉनीटर ही टूट कर बिखर जाएगा
यहां पत्‍थर टिप्‍पणी करके मारा जाता है
यह हिन्‍दी ब्‍लॉग जगत का निराला अंदाज है
जो सबको खूब खूब बहुत खूब पसंद आता है।


दैनिक जनसत्‍ता दिनांक 19 अगस्‍त 2010 में प्रकाशित चौपाल स्‍तंभ में प्रकाशित श्री राजेन्‍द्र उपाध्‍याय का पत्र जो आपको मंथन के जरूर विवश करेगा। यह पत्र लेखों से भी अधिक सशक्‍त है।

4 टिप्‍पणियां:

  1. azi kahnaa kyaa hai jo kuchh kahnaa thaa gaalib saahib kah gye -gaaliyaan khaa ke be -mzaa naa huaa .
    behar -soorat ,apni shev banaakar saaboon doosre ke muh par fainknaa naa pahle saahitay thaa naa aaj .
    badhaai ke paatra hain rajendra upaadhyaay sahib .saarikaa ke daur se inki kahaaniyaan hampadhte gunte aayen hain .achchhaa muddaa uthhaayaa hai jo apne aap me aadhunik khaani hai .
    veerubhai

    उत्तर देंहटाएं
  2. जब साहित्य के मूर्धन्यों का ये हाल है तो बाकियों का क्या होगा. ऐसे साहित्यकार अब वाहित्यकार या वाहियातकार कहे जायं तो कोई गलत नही होगा.

    उत्तर देंहटाएं
  3. जो मूढ़ धन्य है वही मूर्धन्य है ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. कहने को तो बहुत कुछ है कह नहीं पाए
    लिखने वाले बहुत है पढ़ने वाले पढ़ नहीं पाए

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने के लिए धन्यवाद
लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

 
Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz