जब भी दिल को कोई बात अखर जाती है ...!

Posted on
  • by
  • गीतिका 'वेदिका'
  • in
  • Labels:
  •  
    हर बार तुम्हारी गली नजर आती है
    जब भी दिल को कोई बात अखर जाती है ...!

    कोई अनजाने ही कुछ कह जाये तो भी
    कोई कह के कुछ रह भी जाये तो भी
    कोई कुछ न बोले पर शक्ल बना ले
    हर बात पे अब तो साँस बिखर जाती  है 
    हर बार तुम्हारी गली नजर आती है ...!

    कोई बात भली तो तुम ही मुस्काते हो
    जैसे कोई आड़ से मुझे चिढ़ा जाते हो
    फिर झट से जाने कहाँ अरे जाते हो
    शायद ये गाड़ी तेरे नगर जाती है
    हर बार तुम्हारी गली नजर आती है ...!

    11 टिप्‍पणियां:

    1. पंक्तियां जो दिल से सीधे ब्‍लॉग पर चली आई हैं।

      उत्तर देंहटाएं
    2. सुन्दर सरल अभिवयक्ति ...बधाई

      उत्तर देंहटाएं
    3. हर बार तुम्हारी गली नजर आती है
      जब भी दिल को कोई बात अखर जाती है ...!

      बहुत ही सुन्दर ....

      उत्तर देंहटाएं
    4. vedika ji,, kalam se aise bhav nikal kar likhna bahut muskil hai,, dil se badhai..... main naya blogger hun plz jarur padhen--- sproutsk.blogspot.com

      उत्तर देंहटाएं
    5. sproutsk जी आपके ब्लॉग कि लिंक नही मिल रही है उसे पब्लिक करिये ताकि सब लोग देख सकें| और अपना मेल आईडी भी प्रोफाइल में लिखिए|
      सधन्यवाद !

      उत्तर देंहटाएं
    6. "बहुत खूबसुरत रचना है लगता है कि जैसे किसी विरह के मारे ने लिखा है। बहुत बहुत शुभकामनाये आपको भी और उसे भी जो इस प्यारी रचना का स्रोत है"

      उत्तर देंहटाएं
    7. हर बार तुम्हारी गली नजर आती है
      Vedika ji bahut sundar rachna. kahan han ap? हर बार तुम्हारी गली नजर आती है ekdam sahi kaha apne...suvkamnayain hamari taraf se.

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz