ब्लॉगवाणी की धोकेबाजी

Posted on
  • by
  • प्रमोद ताम्बट
  • in
  • Labels:

  • ब्लॉगवाणी ने तो इस बार हद ही कर दी। पहले भी कई बार ब्लॉगवाणी में परेशानियाँ आई हैं मगर इसके लिए परेशान होने वाले ब्लागरों को संचालकों ने बाकायदा सूचित किया और असुविधा के लिए खेद भी जताया, मगर इस बार तो संचालक एक अजीब सी रहस्यमय खामोशी अख्तियार कर के बैठे है। यहां वहां से उडत्ती उड़ती खबरें आती हैं ब्लॉगवाणी अब ठीक हो रहा है तब ठीक हो रहा है मगर दस दिन से ज्यादा हो गया संचालकों ने आज तक अपना मुँह नहीं खोला । यह हज़ारों ब्लॉगरों के साथ सरासर धोकेबाजी है जो ब्लॉगवाणी पर विश्वास करते है। ब्लॉगवाणी संचालकों को तुरंत सामने आकर वस्तुस्थिति से ब्लॉगरों को अवगत कराना चाहिए।

    प्रमोद ताम्बट
    भोपाल
    www.vyangya.blog.co.in
    http://vyangyalok.blogspot.com

    3 टिप्‍पणियां:

    1. yhb aap ki abhdrta hai
      kyon ki blog vani is ke liye bloger se kuchh nhi leti vh to seva me juti hai fir is trh toht lgana kaise uchit hai
      dr. ved vyathitb

      उत्तर देंहटाएं
    2. अभद्रता की आरे ध्यान आकर्षित करने के लिए धन्यवाद। मगर यह बात ब्लॉगवाणी द्वारा कही जाती तो उचित होता। कुछ लेती हो या ना लेती हो, उन्हें सार्वजनिक घोषणा के बाद इसे बंद करना चाहिए। मुद्दा सिर्फ यह है कि ब्लॉगवाणी संचालकों को तुरंत सामने आकर वस्तुस्थिति से ब्लॉगरों को अवगत कराना चाहिए।

      प्रमोद ताम्बट
      भोपाल
      www.vyangya.blog.co.in
      http://vyangyalok.blogspot.com

      उत्तर देंहटाएं
    3. उधार दिया था.. जो वापस मांग रहे है... बंद रहे तो ही ठीक... नुक्कड़ पर अच्छी पोस्ट सजाई है...

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz