दैनिक हरिभूमि में : मजदूर दिवस एक, मजदूर अनेक, फिर भी साहब नेक (अविनाश वाचस्‍पति)


आओ मजदूर दिवस मनाएं

हम सब मजदूर हो जाएं
किसी एक मजदूर का बोझा
हम सब मिलकर आज उठाएं
पर क्‍या इतना नेक होना संभव है
अपने मन में झांक कर देखिए
किसी मजदूर से नहीं जनाब
उसके काम को साझा कीजिए

स्‍कैनबिम्‍ब प्रकाशित अंक आने पर लगाया जाएगा तब तक लिंक पर क्लिक करके पढि़ए।

8 टिप्‍पणियां:

  1. सही सोचा है आपने ! जो मजदूर दिन रात मेहनत करके हमारे लिए साधन जुटाते हैं ,लेकिन फिर भी जिनकी मेहनत को सहराया नहीं जाता बल्कि हमेशा उनके लिए गलत उपमा ही दी जाती है !
    कम से कम मजदूर दिवस पर इनके उत्थान के बारे में सोचना चाहिए !

    उत्तर देंहटाएं
  2. मजदूर दिवस की बधाई..मजदूर एकता जिंदाबाद....बहुत बढ़िया रचना...बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब अविनाश भाई एकदम सही पटका है

    उत्तर देंहटाएं
  4. हम सभी मजदूर हैं भाई, बस श्रेणी अलग अलग है, कोई बोझा उठाता है सिर पर, कोई उठाता है दिमाग पर . अपने मन को समझाने के लिए हम बाबु है, अफसर है , इंजीनियर , डाक्टर है लेकिन क्या हम उनसे अलग है,पेट पालने के लिए कमाने के तरीके अलग अलग हैं. पर काम सभी करते हैं. हम मालिक है किसी के तो कोई हमारा भी मालिक है. चाहे वही हो ऊपरवाला !

    उत्तर देंहटाएं
  5. bahut badhiya maine akhabar me hi padh liya tha. darasal haribhoomi sa juda hoon.

    bhart me sabse pahle majdoor divas 1925 me madras ke beluchettiyar ke netratva me manaya gaya tha. 1911 me kam 11 hour ki jagah 8 hours kiya gaya. lekin is samay majdoor apni takat nahi juta pa rahe hain.

    उत्तर देंहटाएं
  6. bahut saarthak pahal...
    Sabhi log agar majdoron ke prati samvedansheel aur chintansheel ho jay to majdor majboor kahan rahega...
    Bahut umda saarthak soch bhari prasuti ke liye bahut dhanyavaad

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने के लिए धन्यवाद
लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

 
Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz