मूर्खता का महीना और गधा करे शोर (अविनाश वाचस्‍पति)

Posted on
  • by
  • अविनाश वाचस्पति
  • in
  • Labels: ,
  • शुरू हुआ है देखो अभी
    बीतता भी नहीं है कभी
    बीत जाएगा तब भी
    रीतेगा नहीं कभी
    रीतने पर भी कोई
    जीतेगा क्‍या कभी ?



    करना है इमेज पर क्लिक
    मेज पर नहीं ठकठकाना है
    और पढ़ जाना है
    मजा न आएगा
    गारंटी इसकी भी है

    देखिए फैशन के दौर में
    दे रहे हैं गारंटी
    इससे अधिक नहीं बजा सकते
    हम किसी भी मंदिर की घंटी।
    सोपानstep मासिक के सौजन्‍य से।

    9 टिप्‍पणियां:

    1. मूर्खता सात्विक गुण है
      अप्रैल का महीने का असर है कि
      इस महीने मे बने हुए लोग भी
      बनाने के फिराक मे लगे रहते हैं

      उत्तर देंहटाएं
    2. बढ़िया आलेख रहा.

      आभार पढ़वाने का.

      उत्तर देंहटाएं
    3. वो घबराये जो समझदार हो ....
      मूर्ख को कोई क्या कह के मूर्ख बनाएगा ...
      इसलिए निश्चिंत हैं ... फिकर नॉट ...:)

      उत्तर देंहटाएं
    4. वाणी की टिप्पणी मेरी भी मानी जाय....
      हम तो मूर्खाधिराज्ञी
      हाँ नहीं तो...!!

      उत्तर देंहटाएं
    5. "मूर्ख की सबसे बड़ी पहचान की वह खुद को बुद्धिमान समझे और बाकी सबको मूर्ख..."..बस यह कहकर तो आपने सबकुछ कह दिया....बढ़िया आलेख

      उत्तर देंहटाएं
    6. avinaash ji

      kya kahe ........sabse jyaada khushi ki baat to yahi hai ki ,moorkh bane rahe ..zindagi acchi katti hai ....

      vijay

      उत्तर देंहटाएं
    7. हा... हा... हा... बुद्धिमान दिवस... बहुत खूब ......

      उत्तर देंहटाएं
    8. सुंदर अतिसुन्दर!। यह आलेख हमारे साथ बाटने के लिए हार्दिक धन्यवाद । इसके लिए सदैव आपका आभारी रहूँगा।

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz