(अवधी-हास्य)

Posted on
  • by
  • डॉ० डंडा लखनवी
  • in




  •                
     
                             मुक्तक
                             
                                     
                                       

                                      -डॉ० डंडा लखनवी


    वैसी    तनिक    निहारौ,   रंग   खेलि  आए दद्दू।

    अपने  ही  मुख मा  करिखा, खुद मेलि आए दद्दू।।

    उद्धाटनन     के   पाथर    देखौ   कहत     कहानी-

    पापड़    समाज    सेवा    के   बेलि   आए   दद्दू।।


      सचलभाष- 09336089753


    5 टिप्‍पणियां:

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz