1411 - बाघों को घाघों से कौन बचायेगा ? (अविनाश वाचस्‍पति)

Posted on
  • by
  • अविनाश वाचस्पति
  • in
  • Labels: ,
  • आप से आरंभ आप पर संपन्‍न कविता


    आप बाघ को तो पहचानते ही होंगे
    क्‍योंकि अभी बाकी हैं इतने
    कि उन्‍हें पहचानने का
    किया जा सके उपक्रम।

    जबकि जूझ रहा है
    हिन्‍दी ब्‍लॉगजगत
    हिन्‍दी बचाने को।

    बचाने को पोस्‍टें
    और उन पोस्‍टों पर
    वे टिप्‍पणियां
    जो नाइस होते हुए
    नाइस नहीं हैं।

    नाइस तो बाघ भी नहीं है
    ऐसा विचार है
    इंसान का
    इंसान जो सदा से परेशान
    वो नाइस लिखने से भी
    हो रहा है परेशान।

    बाघ से बचना बचाना
    बाघ का सजना
    उसे सजा देना
    शिकार करना उसका
    और जेबें अपनी भरना।

    जीवन सबको अपना प्‍यारा होता है
    प्‍यार किसी का भी हो
    सदा प्‍यारा ही होता है।

    आप किसी बाघिन मां से पूछो
    उसे बाघ शावक से क्‍यों प्‍यार है ?

    संजीव की बात को तो
    मानना ही होगा
    वे सजीव भी हैं
    संजीव से पहले।

    वैसे शिकार जारी रहेगा
    सागर सही कह रहे हैं
    हम हर पल पल पल
    उसी रौ में बह रहे हैं।

    जो कहना चाह रहे हैं
    कह रहे हैं बस्‍स
    सबक नहीं ले रहे हैं
    जिन्‍हें लेना चाहिए
    सही कह-सह रहे हैं।


    बाघ नहीं बच सकता
    1411 को 0000
    होना ही होगा
    यही इंसानी फितरत है
    नीयत है, साजिश है
    फेल सारी गुजारिश है
    पास सिर्फ इंसान है आप।

    6 टिप्‍पणियां:

    1. भूरे मिस्त्री ने पूछा, हे भगवन तुम इस जमीं पर आकर क्यों नहीं रहते। तुम प्यार करने वाले कितने हैं, तो भगवन ने उत्तर दिया। अभी जिन्दगी से बहुत प्रेम है मुझे भूरे मिस्त्री।

      उत्तर देंहटाएं
    2. भुरे बाबा जी ने सही कहा, "नाईस"

      उत्तर देंहटाएं
    3. sach hi to he jo aapne likha..vese baagho ko bachane ka baazar chal rahaa he mujhe samajh nahi aataa un kuposhit bachcho ko pahle bachaa le jo kaal ke graas bane hue he.., un kisaano ko bachaa le jo aatmhatyaaye kar rahe he, us mahngaai se hame bachaa liye jaaye jisaki maar se do chaar ho rahe he, un berojgaaro ko marne se bachaa le jo padhh likh kar parivaar kaa bojh bane he...kitni saari chije he jinse bachana he magar baazaar lagaa he bagho ka..../

      उत्तर देंहटाएं
    4. 1411 को 0000 होना ही होगा ....चिंताजनक चेतावनी !

      प्रणाम

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz