साधक उम्मेद सिंह जी और प्रशांत उर्फ़ पीडी से एक छोटी सी मुलाकात चैन्नई में

आज की मुलाकात का विवरण बाद में, केवल एक फ़ोटो देखिये ..

 

00

 

साधक उम्मेद सिंह जी की कलम इस मुलाकात के लिये -

प्यारी सी यह सुबह, सार्थक भी लगती कुछ ज्यादा.

विवेक के संग प्रशान्त पाया, लिये अर्थ तात्विक सा.

लिये अर्थ तात्विक सा, चर्चा खुद की और जगत की.

ब्लाग पे क्या लिखते, क्यों लिखते? सारी बातें मन की.

कह साधक यह मुलाकात तीनों को याद रहेगी.

सार्थक भी लगती कुछ ज्यादा, यह सुबह प्यारी सी.

11 टिप्‍पणियां:

  1. आप तीनों को ही नहीं
    याद हमें भी रहेगी
    आपने ही तो हमें
    सुबह उठाया है
    आप मिले हैं
    हमें मिलाया है
    इस अवसर को
    किसी ने नहीं गंवाया है
    मुझे मालूम है
    बहुत कुछ सीखा है
    और सब कुछ सिखाया है
    पर यह सामने कौन हैं
    जिनके सामने सब मौन हैं
    सिर्फ कमरा नहीं है
    सिर्फ कैमरा नहीं है
    कैमरे का लैंस ही नहीं है
    एक खींचने वाला भी है
    उसे भी तो सामने लाते
    उसकी एक फोटो भी तो दिखाते
    कैमरामैन को ब्‍लॉगर बनाते
    पर जो भी किया है
    मिले हैं मिलाया है
    हमको तो सब भाया है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. हा विवेक रात को आप बता रहे थे और सवेरे हम उठे तो समाचार भी मिल गया कि मिल लिये.
    दिल मिले दिलदार मिले ब्लोग पर उनके फोटो भी मिले.

    उत्तर देंहटाएं
  3. कैमरा पीडी का था जो कि आटोमेटिक था,
    कैमरामेन पीडी का कैमरा खुद था,

    उत्तर देंहटाएं
  4. यह सब ब्लॉग जगत की माया है..यह एक परिवार जैसा जो बन गया है...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छी जानकारी। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  6. चलिये मुलाक़ात तो हो गयी बधाई

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने के लिए धन्यवाद
लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

 
Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz