दिमाग में चुस्‍ती चाहिए तो हिन्‍दी अपनाइये (अविनाश वाचस्‍पति)

Posted on
  • by
  • अविनाश वाचस्पति
  • in
  • Labels:
  • दिमाग की चुस्‍ती चाहिए
    तो तुरंत हिन्‍दी अपनाइये
    अंग्रेजी को दूर भगाइये
    और मराठी को ...
    भाषा से हमें
    नहीं है कोई बैर
    बैर तो भाषी से भी
    नहीं है
    बैर है बैर की चाहत
    रखने वालों से।

    हिन्‍दी बोलें और
    अपने दिमाग को
    चुस्‍त बनायें।

    पूरी जानकारी पाने के लिए
    उपर दिए गए चित्र पर
    चटका लगाएं और पसंद
    आए तो पसंद भी चटकाएं।

    14 टिप्‍पणियां:

    1. यह टिप्पणी रिपोर्ट पढ़ने के बाद:
      (1) अंग्रेजी में जोर जोर से बोलने को कहा गया जब कि हिन्दी में बात करने को कहा गया। दोनो प्रक्रियाओं में फर्क है लिहाजा मस्तिष्क की सक्रियता में भी फर्क होगा। अंग्रेजी में भी बात कराना था तब तुलना करनी थी।
      (2) नागरी लिपि लिखने पढ़ने में मात्राओं के आगे पीछे, उपर नीचे वाली बात समझ में आती है लेकिन बोलते समय भी इसका प्रभाव होना चाहिए ऐसा नहीं समझ में आता।

      सम्भवत: रिपोर्ट का प्रस्तुतिकरण ठीक नहीं है। अब मेरे उपर आप लोग जूते लेकर मत पड़ जाइएगा :)

      उत्तर देंहटाएं
    2. हम तो भय्या अपनाए हुए है

      उत्तर देंहटाएं
    3. दिमाग की चुस्‍ती चाहिए
      तो तुरंत हिन्‍दी अपनाइये
      बहुत सही सलाह ..!!

      उत्तर देंहटाएं
    4. matlab hindi blogars ka dimaag sabse jyada chust rahata hai wo to hindi me ram gaye hai ..

      उत्तर देंहटाएं
    5. हम भी अपनाये हैं शुभकामनायें

      उत्तर देंहटाएं
    6. yeh nahi pata tha !! to yeh hindi ke side effects hain !! sahi hai.. btw hum bhi ab Hyderabad mein hi hain...:-)

      उत्तर देंहटाएं
    7. हिंदी में मात्राएं और बिंदियां ही इतनी तरह की हैं कि दिमाग ठस्स रह ही नहीं सकता :-)

      उत्तर देंहटाएं
    8. नयी और मौलिक जानकारी,में तो अधिकतर लिखने,बोलने में हिन्दी ही अपनाता हूँ,अगर आवशयक्ता पड़े केवल तब ही,अंग्रेजी बोलता और लिखता हूँ ।

      उत्तर देंहटाएं
    9. आप ने ये ब्लॉग १४ oct2009 को रात ८ बज कर ७ मिनट और १० सेकंड पर पोस्ट किया है ,

      उत्तर देंहटाएं
    10. @ अमित जैन दीवाना


      दीवाने ही हो बंधु

      ब्‍लॉग नहीं
      पोस्‍ट पोस्‍ट की है।

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz