**शुभकामनाएं**

Posted on
  • by
  • राजेश उत्‍साही
  • in
  • Labels:
  •  
    मोती सा त्‍यौहार दिवाली
    ज्‍योति का त्‍यौहार दिवाली
     
    दीप जलें ,जगमग जगमग
    रोशन हों, हर घर खुशहाली
     
    बांटें खुशियां मिलकर सब
    तमिल ,मराठी हों बंगाली



    यही कामना सच हों सपने
    रहे न कोई पुलाव ख्‍याली
     
    चकाचौंध में, भूल न जाना
    रातें कुछ हैं, अब भी काली

    खाएं छककर आप मिठाई
    दुआ करे, उत्‍साही भोपाली  

                0राजेश उत्‍साही

    10 टिप्‍पणियां:

    1. यह दिया है ज्ञान का, जलता रहेगा।
      युग सदा विज्ञान का, चलता रहेगा।।
      रोशनी से इस धरा को जगमगाएँ!
      दीप-उत्सव पर बहुत शुभ-कामनाएँ!!

      उत्तर देंहटाएं
    2. बहुत सुंदर रचना !!
      पल पल सुनहरे फूल खिले , कभी न हो कांटों का सामना !
      जिंदगी आपकी खुशियों से भरी रहे , दीपावली पर हमारी यही शुभकामना !!

      उत्तर देंहटाएं
    3. दीप-उत्सव पर बहुत शुभ-कामनाएँ!!

      उत्तर देंहटाएं
    4. आनंद आ गया

      मन आंगन छा गया

      शब्‍दों का जादू

      नुक्‍कड़ पर जगमगा गया।

      उत्तर देंहटाएं
    5. सुख औ’ समृद्धि आपके अंगना झिलमिलाएँ,
      दीपक अमन के चारों दिशाओं में जगमगाएँ
      खुशियाँ आपके द्वार पर आकर खुशी मनाएँ..
      दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

      सादर

      -समीर लाल 'समीर'

      उत्तर देंहटाएं
    6. शानदार और मनमोहक। ग़ज़ल के कई शे’र दिल में घर कर गए।

      उत्तर देंहटाएं
    7. दीपावली के शुभ अवसर पर आपको और आपके परिवार को शुभकामनाएं

      उत्तर देंहटाएं
    8. सुन्दर रचना ...
      शुभ दीपावली..!!

      उत्तर देंहटाएं
    9. "खाएं छककर आप मिठाई"....!
      नकली मिठाई के ज़माने में भी ?
      ओह

      उत्तर देंहटाएं
    10. काजल जी आदमी कहां असली

      मानवता हर दम लगती मवाली

      आप हम सब कहां जा रहे हैं

      सदी का हर पल लगे सवाली

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz