इनसे अधिक मिठास कहीं और मिल सकती नहीं (अविनाश वाचस्‍पति)

Posted on
  • by
  • अविनाश वाचस्पति
  • in
  • Labels:
  • त्‍योहार हैं आये सबके मन आनंद छाये मिले खूब बधाई
    पर न तो मिठाई खाओ और न खिलवाओ मेरे प्‍यारे भाई

    मिठाईयां बन रहीं, बिक रहीं, धड़ाधड़ खूब मिलावटी अब
    बदले में मिल रही हैं सब बीमारियां सभी बेमिलावटी जी

    खोया भी बन रहा नकली है जिसमें घी भी भरा नकली है
    चीनी असली हो तो भी बचाव नहीं कर सकती मेरे मित्रो

    लालच मन का इंसान के मन से बिल्‍कुल भी जाता नहीं है
    इंसान के मन को हैवान बनाता लालच लजाता ही नहीं है

    जाना सब छोड़ के है किसी को ले जाना कुछ भी तो नहीं
    फिर भी कमाता है खूब उल्‍टे तरीकों से बेशर्म होकर वही

    रोक इस पर लग सकती नहीं है जो गिर गया उठता नहीं
    लालच के जंजाल में फंस गया है निकल सकता ही नहीं

    दो दिल से शुभकामनायें सबको बोल चार मीठे बोलकर
    इनसे अधिक मिठास कहीं और जहां में मिल सकती नहीं

    इनमें हो मिलावट तो सबको महसूस तुरंत हो ही जाती है
    शब्‍दों की मिलावट कई बार तो पकड़ में भी नहीं आती है

    मिलावटी मिठाई से देख लो बेचकर मिलते नोट असली हैं
    बाजार में दौड़ रहे जितने अब नोटों के ढेर भी तो नकली हैं

    नकली है इंसान भी, इंसान है परेशान भी, उसने ठान ली
    मिलावटी और नकली बेचने में बढ़ती है उसकी शान भी।

    8 टिप्‍पणियां:

    1. "दो दिल से शुभकामनायें सबको बोल चार मीठे बोलकर
      इनसे अधिक मिठास कहीं और जहां में मिल सकती नहीं"

      सत्य-वचन ! दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें ।

      उत्तर देंहटाएं
    2. कल हमने पत्नी के साथ मिलकर बेसन के लड्डू बनाये आप हमारे यहाँ आयें तो बालूशाही के साथ खिलायें ।बिना मिलावट के ये पकवान गर आपके मन को भायें तो इस मिठास को सबके साथ बाँटे और बँटवायें ॥

      उत्तर देंहटाएं
    3. मिठाईयाँ नही खाऊँगा पर आपके बताए रास्ते से मिठास अवश्य फैलाने की कोशिश करूँगा.
      दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएँ

      उत्तर देंहटाएं
    4. बढ़िया सन्देश दिया है।
      दीपावली, गोवर्धन-पूजा और भइया-दूज पर आपको ढेरों शुभकामनाएँ!

      उत्तर देंहटाएं
    5. हर जगह मिलावट है और वो इतना की बिल्कुल सच के करीब लगता है ..आज दुनिया छलावे से भरी पड़ी है.बस हमे आदमी को पहचान कर जीना पड़ेगा..सभी नुक्कड़वासियों को .दीवाली मंगलमय हो..बहुत बहुत शुभकामनाएँ

      उत्तर देंहटाएं
    6. मज़ा आ गया....कोकास जी ने केवल अविनाश जी को ही आमंत्रण दिया, कोई बात नहीं, अविनाश जी लेखिनी से उसे सामूहिक बना ही देंगे.....

      उत्तर देंहटाएं
    7. दीपोत्सव का यह पावन पर्व आपके जीवन को धन-धान्य-सुख-समृद्धि से परिपूर्ण करे!

      उत्तर देंहटाएं
    8. बहुत ही उम्दा........

      अभिनन्दन !


      आपको और आपके परिवारजन को
      दीपोत्सव की हार्दिक बधाइयां
      एवं मंगल कामनायें.......

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz