सनसनी है बेटा... टीआरपी बढ़ेगी

Posted on
  • by
  • पुष्कर पुष्प
  • in

  • पिछले दिनों मध्यप्रदेश के रायसेन जिले से एक खबर आई। एक पत्रकार होने के नाते मेरे लिए उस खबर पर अचंभित होना लाज़मी था। खबर थी कि एक मुर्गी ने इंसान के बच्चे को जन्म दिया। लगभग एक हाथ की लंबाई का वो बच्चा जन्म लेते ही मर गया। पता नहीं क्यूं मेरा मन ये मानने से इंकार कर रहा था कि ऐसा हो सकता है, क्यूंकि विज्ञान का विद्यार्थी रह चुके होने के नाते मुझे डार्विन का सिद्वांत याद आ रहा था कि शुरूआती तीन महीनों में इंसान और जानवर दोनों का विकास एक जैसा होता है। पर खबर थी तो करना भी जरूरी था। मुझे लगा हो सकता है कि कोई उस भ्रूण को वहां पर फेंक गया हो या फिर डार्विन भाई का सिद्वांत ही ठीक हो। खबर करने का मन न होने का एक कारण यह भी था कि उस बच्चे को पैदा होते किसी ने नहीं देखा। लेकिन उपर से आदेश था तो खबर करना भी जरूरी था लेकिन क्या करें दिल है की मानता ही नहीं। पांच बजे तक हमने इंतजार किया और जब देखा कि सभी चैनलों ने उसे चलाना शुरू कर दिया तो मजबूरन मुझे भी ये खबर करनी पड़ी। आप पूरा लेख मीडिया ख़बर.कॉम पर पढ़ सकते हैं। यहाँ क्लिक करें।

    8 टिप्‍पणियां:

    1. मीडिया में आपादापी मची है। मैंने भी अपने ब्लॉग पर इस ख़बर के बारे में लिखा है। उम्मीद है पढ़ने के बाद आप की टिप्पमी भी मिलेगी।

      उत्तर देंहटाएं
    2. ye sab aage nikalne ka fanda hai mere dost ....

      ye to murgi thi kuch dino baad pathar se bhi bachhe janm lenge .....

      उत्तर देंहटाएं
    3. क्षमा करना भाई, बाद में पढ़ पाउंगा..आपकी रिपोर्ट कुछ लंबी है...

      उत्तर देंहटाएं
    4. मीडिया तो मसाले ढूढ़ती है..

      बढ़िया रिपोर्ट..बधाई!!

      उत्तर देंहटाएं
    5. बापरे अगर मुर्गी कुते बिल्ली के बच्चे भी आदमी होने लगे तो स्थिति भयावह होगी ! बद्दा हो के मुर्गी का बेटा?? मुर्गी का नाम क्या था?? बाप का नाम ?? विकत परिस्थितियों का सामना करना पड़ेगा|

      उत्तर देंहटाएं
    6. अब आदमी से मुर्गा
      और मुर्गे से आदमी
      गजब है आगे देखिये
      क्या होगा भगवान

      बड़ा रोचक समाचार दिया
      कान खड़े हो गए है.

      उत्तर देंहटाएं
    7. अजीब बेवकूफी है -कैसी विडम्बना है की यह डार्विन की द्विशती है जिसे दुनिया इस महान वैज्ञानिकी की याद में मना रही है और एक और हम है -शेम शेम !

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz