जब महाशिवरात्रि है ऐसी मतवाली, फिर सुबह का आलम क्‍या होगा ?

Posted on
  • by
  • नुक्‍कड़
  • in
  • Labels: , ,
  • #‪#‎MahashivRatri‬
    जब रात का आलम यह है
    तो सुबह का आलम क्‍या होगा
    आत्‍मा से परमात्‍मा का मिलन
    सच्‍चाई है इस सृष्टि कीक्‍
    इससे भला किस आत्‍मा को
    इंकार होगा, इंतजार है
    परमात्‍मा से मिलन का
    मिलन का सच और क्‍या होगा ?

    1 टिप्पणी:

    1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बुधवार को
      दर्शन करने के लिए-; चर्चा मंच 1893
      पर भी है ।
      --
      सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
      --
      हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
      सादर...!

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz