'चिट्ठासमय' एग्रीगेटर 24 अक्‍तूबर 2013 को आरंभ किया जा रहा है : लिंक पर पहुंचकर तुरंत पंजीकरण कीजिए


याद रहे
कोई हिन्‍दी ब्‍लॉगर छूट न जाए
चाहे छूटे फेसबुक

चिट्ठासमय
सनातन एवं शाश्‍वत है
इसकी आवश्‍यकता
हिंदी ब्‍लॉगों/ब्‍लॉगरों को
देगी नया जीवन।

देर मत कीजिए
इस पोस्‍ट को अपने
ब्‍लॉगों और चर्चामंच
पर अवश्‍य साझा कीजिए।

आप चिट्ठाजगत
ब्‍लॉगवाणी एग्रीगेटर की
उपयोगिता देख चुके हैं
निश्चित है
अब आप फेसबुक
को जाएंगे भूल।

फेसबुक के खाते पर
चढ़ जाएगी धूल
चिट्ठासमय को
जाइएगा मत भूल।

इस पर रोजाना
आने को बना लीजिएगा
अपने जीवन का उसूल
इसी में जनहित है
साहित्‍यहित है
चिट्ठासमय प्रत्‍येक
नेक रचनाकार का
परम मित्र है।

10 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. प्रिय सुशील भाई, विश्‍वास है कि आपने अपने ब्‍लॉग का विवरण एवं अन्‍य जानकारी भरके सबमिट कर दी होगी। आप अपने अन्‍य ब्‍लॉग साथियोंको भी इस नेक कार्य के लिए प्रेरणा प्रदान कर ब्‍लॉग हित में सहभागी बन सकते हैं।

      हटाएं
    2. कितना सोना देने वाले हो नहीं दे रहे हो तो बता देना हम खुद खोद लेंगे !

      हटाएं
    3. आपका आदेश था कैसे नहीं करते पता लगते ही सिर के बल दौड़ते आ कर जमा कर गये थे उल्लू के अखबार का पता !

      हटाएं
  2. please add my blog.
    blog url--- http://prathamprayaas.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. रिचा जी आप स्‍वयं लिंक खोलकर उसमें सबसे पहले अपना नाम हिंदी में अथवा अंग्रेजी में, फिर ब्‍लॉग का यूआरएल जो आपने उपर दिया है, सबसे अंत मेंअपना ईमेल पता प्रविष्‍ट करके सबमिट कर दीजिए। पंजीकरण हो जाएगा। आप नुक्‍कड़ ब्‍लॉग का अनुसरण करके ऐसी और अनेक नेक जानकारियां पा सकती हैं। इसके लिए अपने अन्‍य ब्‍लॉग रचनाकारों को भी प्रेरित कर सकती हैं।

      हटाएं
  3. उत्तर
    1. बहुत बढि़या। अपने साथियों को भी इसकी जानकारी दीजिएगा।

      हटाएं
  4. मैंने तो अपने दोनों चिट्ठे (chikotii.blogspot.com, hathodaa.blogspot.com) वहां चिपका दिए हैं। इस अति-महत्त्वपूर्ण जानकारी के वास्ते शुक्रिया बंधु।

    उत्तर देंहटाएं
  5. शुक्रिया नहीं, इस जानकारी को वायरल की तरह सब हिंदी ब्‍लॉगरों तक पहुंचाएं।

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने के लिए धन्यवाद
लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

 
Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz