अगले बरस के नुक्‍कड़डॉटकॉम महाशिखर सम्‍मान की घोषणा

सच्चा हिंदी ब्लॉगर वही
जो धन न कमाए
बेहियाब, बे-वज़ह
विवाद बढ़ाए


अगले बरस
नुक्कड़ॉडॉटकॉम देगा
इन्हीं उपलब्‍धियों पर
पुरस्कार और करेगा
महाशिखर सम्मान


कौन योग्य हैं इनके

सब परिचित हैं
सो कोई तनिक
विरोध न करेगा

पंडित और विद्वान में
न हो मुकाबला कड़ा
न हो बखेड़ा
इसलिए दोनों को
मंच पर खड़ा करके
हाथों में थमाए जाएंगे।

14 टिप्‍पणियां:

  1. वैसे तो पंडित और विद्वान समानार्थक शब्द बोध कराते आयें हैं हो सकता है चिठ्ठाकारिता का अपना श्लेषार्थ रहा आया हो विद्वान और पंडित यहाँ आकर दो धाराएं हो गईं हों ,यदि ऐसा है तो यह भारतीय साहित्य समाज के लिए चिठ्ठाकारिता की अलग सी सौगात समझी जायेगी .लगे हाथों एक ब्लोगरगणेश सम्मान भी घोषित कर दे .इसे ब्लॉग नंदन न समझा जाए .
    मंगलवार, 4 सितम्बर 2012
    जीवन शैली रोग मधुमेह :बुनियादी बातें
    जीवन शैली रोग मधुमेह :बुनियादी बातें

    यह वही जीवन शैली रोग है जिससे दो करोड़ अठावन लाख अमरीकी ग्रस्त हैं और भारत जिसकी मान्यता प्राप्त राजधानी बना हुआ है और जिसमें आपके रक्तप्रवाह में ब्लड ग्लूकोस या ब्लड सुगर आम भाषा में कहें तो शक्कर बहुत बढ़ जाती है .इस रोगात्मक स्थिति में या तो आपका अग्नाशय पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन हारमोन ही नहीं बना पाता या उसका इस्तेमाल नहीं कर पाता है आपका शरीर .

    पैन्क्रिअस या अग्नाशय उदर के पास स्थित एक शरीर अंग है यह एक ऐसा तत्व (हारमोन )उत्पन्न करता है जो रक्त में शर्करा को नियंत्रित करता है और खाए हुए आहार के पाचन में सहायक होता है .मधुमेह एक मेटाबोलिक विकार है अपचयन सम्बन्धी गडबडी है ,ऑटोइम्यून डिजीज है .

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका सुझाव स्‍वीकृत कर लिया गया है। ब्‍लॉगरगणेश

      हटाएं
  2. मेरा नाम लिख लीजिए,
    मुझसे ही शुरू कीजिये !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप पहले ही ले चुके हैं इसलिए सुपात्र नहीं हैं

      हटाएं
  3. पक्का रविकर दिख रहा, पुरस्कार बढ़वार |
    हर रचना पर कर रहा, हर संध्या तकरार |
    हर संध्या तकरार, वंदना पूजा करता |
    होय तुषारापात, दोष दूजे सिर धरता |
    खुराफात का शेर, टहलते देता धक्का |
    हूँ काबिल हर-मेर, देर क्यूँ करिए पक्का ||

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. सम्मान की घोषणा कर,मचा दिया धमाल
    यदि ऐसा हो जाए तो,फिर हो जायेगा कमाल,,,,,

    आपसे न मिल पाने का बेहद अफ़सोस है,,,,

    RECENT POST,तुम जो मुस्करा दो,
    RECENT POST-परिकल्पना सम्मान समारोह की झलकियाँ,

    उत्तर देंहटाएं
  6. उत्तर
    1. आपके लिए तो वही रहस्‍यमयी थैली ही थमाई जाएगी जिसे पाने की चाहत न मिलने तक आपके मन से मिट नहीं पाएगी।

      हटाएं
  7. सही है चाचा जी..हम भी किस्मत आजमाएंगे ..क्या पता कोई पुरस्कार मुझे भी मिल जाये..

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने के लिए धन्यवाद
लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

 
Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz