उसेन बोल्ट के नाम

Posted on
  • by
  • Fazal Imam Mallick
  • in
  • फ़ज़ल इमाम मल्लिक


    दिपदिपाते चेहरे
    और इतिहास रचने के
    जज्Þबे के साथ
    विक्ट्री स्टैंड पर
    सबसे ऊपर खड़े तुम
    नजाने कितनों की
    उम्मीद हो उसेन बोल्ट!
    विक्ट्री स्टैंड पर खड़े तुम्हें
    गोल्ड मेडल हाथों में लिए देख
    न जाने कितनों के
    सपनों को पंख लग जाते होंगे उसेन बोल्ट

    तुमने एक बार फिर साबित किया कि
    रंगों से कोई बड़ा या छोटा नहीं होता
    रंग गोरा हो या काला
    जो भी कुछ कर गुज़रता है
    वही नायक बन कर
    हमें एक उत्साह से भर देता है
    तुमने यह भी साबित किया उसेन बोल्ट कि
    खेल के मैदान पर
    कोई भी देश सुपर पावर बन सकता है
    बस उसे मौक़े की तलाश होती है
    यही वजह है कि ट्रैक पर
    सुपर पावर कहलाने वाले देश भी
    तुम्हारी रफ्Þतार के आगे बौने साबित हो गए
    और तुमने पलक झपकते ही
    एक छोटे देश को फिर से
    सुपर पावर बना डाला

    ओलंपिक स्टेडियम में
    तुम्हें फर्राटा भरते देखना
    एक अलग अनुभव था उसेन बोल्ट!
    ट्रैक पर खड़े तुम्हारे चेहरे पर फैली मुस्कराहट
    और बदन में दौड़ती विश्वास की चमक
    तुम्हारी शिराओं में कौंधती बिजली
    और तुम्हारे पांवों की चपलता
    तुम्हें दूसरों से अलग कर रही थी उसेन बोल्ट!
    तुम जब तक नहीं दौड़े थे
    तो लोगों ने तुम्हारी रफ्तार पर सौ-सौ सवाल उठाए थे
    लेकिन तब तुम ख़ामोश रहे थे
    तुम्हें पता था कि
    तुम्हें किस तरह से उन्हें जवाब देना है
    और तुमने दिया
    अपने पिछले ओलंपिक रेकार्ड को सुधारते हुए
    तुम फिर से दुनिया के तेज़ धावक बन गए उसेन बोल्ट!

    ओलंपिक स्टेडियम में
    जब ‘गो’ की आवाजÞ के साथ
    तुम अपने ब्लाक से ज़न्न से निकले तो
    फिर सब कुछ पीछे छूट गया था उसेन बोल्ट
    तुम्हारे पांव मानो हवा में उड़ रहे थे
    और तुम अपने किसी प्रतिद्वंद्धि को नहीं देख रहे थे
    तुम्हारी निगाहें सामने उस घड़ी पर थीं
    और लक्ष्य नया रेकार्ड पर
    दौड़ते हुए तुम बार-बार
    उस बड़ी-सी घड़ी को देख रहे थे
    और उसे देखते हुए तुमने फिनिशिंग लाइन को छुआ
    तो एक नया रेकार्ड तुम्हारे नाम था उसेन बोल्ट!

    उस रात टेलीविज़न पर तुम्हें दौड़ता देख कर
    यों लगा था कि तुम्हारा मुक़ाबला तो
    किसी और से नहीं ख़ुद तुमसे था उसेन बोल्ट
    और जो ख़ुद से मुक़ाबिल होता है
    उसे कौन हरा सकता है भला

    उसेन बोल्ट
    तुमने एक बार फिर साबित किया कि
    रंगों से कोई बड़ा या छोटा नहीं होता
    और खेल के मैदान पर
    कुछ कर गुज़रने का जनून किसी भी देश को
    सुपर पावर बना देता है



    1 टिप्पणी:

    1. काले रंग की महिमा अपरंपार
      धन काला ही मिलता अपार
      भरता स्विस बैंक के भंडार
      काला धन सदा पाला धन।।

      धन जीतना ही होता है
      मन अधिकतर का लेकिन
      जो जीतता है, जिसने जीता है
      मन अपना, सबका मन
      वह है उसेन बोल्‍ट।।

      सही कह रहे हैं फ़ज़ल
      सुन रहे हो न उसेन बोल्‍ट
      करते रहना सदा इसी तरह
      सब बाधाओं को बोल्‍ट।

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz