रविकर पर थू थू करे, जो खाया इक प्याज

Posted on
  • by
  • रविकर
  • in
  •  उनकी मदिरा सोमरस, इज्जत करे समाज ।
    रविकर पर थू थू करे, जो खाया इक प्याज ।।

     बाइक को पुष्पक कहे , घूमे मस्त सवार ।
     रविकर का वाहन लगे, उसे खटारा कार ।

    रविकर आदर भाव का, चाटुकारिता नाम ।
    नजर हिकारतमय वहां, ठोके किन्तु सलाम ।।

    रविकर के चुटुकुले भी, लगते हैं अश्लील ।
    मठ-महंत के हाथ से, कर लें वे गुड-फील ।।


      जालिम कर दे क़त्ल तो, वे बोले इन्साफ ।
    रविकर देखा भर-नजर, नहीं कर सके माफ़ ।।

    रविकर करे ठिठोलियाँ, खाय गालियाँ खूब ।
    पर उनके व्यभिचार से, नहीं रहा मन ऊब ।। 

    रविकर की पूजा लगे, ढकोसला आटोप ।
    खाए जूता-गालियाँ, करे न उनपर कोप ।।

    रविकर चूल्हा कर रहा, प्रर्यावरण खराब ।
    उनकी जलती चिता को, हवन कह रहे सा'ब ।।

     तूफानी गति ले पकड़, रविकर  इक अफवाह ।
    उनके घर का तहलका, शीतल पवन उछाह ।।

    हकीकतें रविकर भली, पर घमंड हो जाय ।
    वहां अकड़पन स्वयं  की, बोल्डनेस कहलाय ।।

    उनकी दादा-गिरी भी, रविकर रहा सराह  ।
    किन्तु हमारी नम्रता,  दयनीयता कराह ।। 


     सहे छिछोरापन सतत, हर चैंबर में जाय ।
    हाय बाय रविकर करे,  पकड़ कान दौड़ाय ।।

    8 टिप्‍पणियां:

    1. कमाल का छंद रचा है रविकर जी। आनंद आ गया। एकदम निर्गुणी है।

      उत्तर देंहटाएं
    2. आपकी प्रस्तुति का असर ।

      बनी है शुक्रवार की खबर ।

      उत्कृष्ट प्रस्तुति चर्चा मंच पर ।।

      आइये-

      सादर ।।

      उत्तर देंहटाएं
    3. रविकर करे ठिठोलियाँ, खाय गालियाँ खूब ।
      पर उनके व्यभिचार से, नहीं रहा मन ऊब ।।
      रविकर चूल्हा कर रहा, प्रर्यावरण खराब ।
      उनकी जलती चिता को, हवन कह रहे सा'ब ।।
      बहुत ही सारगर्भित और प्रासंगिक प्रस्तुति ब्लोगर पर चल रहे कई वाक् धारावाहिकों के संदर्भ में जिसमे एक पक्ष दूसरे पर लगातार मिसायल दाग रहा है .

      अजी गाली खाओ ,दरिया में डालो यानी 'गाली खा दरिया में डाल 'रविकर सबो रहा बताय ...
      पर्यावरण कर लो बेशक ब्लोगिया पर्यावरण बिगड़ कर 'प्रयावरण'(प्रिया -वरण) ही हो गया सही .

      उत्तर देंहटाएं
    4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

      उत्तर देंहटाएं
    5. रविकर देख उलटा चलन, गुण ना तजना होय।
      चढ़े शिखर जब धीरता, तुनक-मिजाजी रोय॥

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz