ईश्वर का निजाम

Posted on
  • by
  • vijay kumar sappatti
  • in
  • दोस्तों ,अक्सर हम शिकायत करते है की मेरे साथ ही ऐसा क्यों हुआ , लेकिन कुछ समय बीत जाने के बाद लगता है की जो हुआ अच्छा ही हुआ , जो होता है अच्छे के लिए ही होता है . ईश्वर के बनाए हुए निजाम में थोड़ी देर के लिए लगता है की गलत हुआ है , लेकिन यही सही होता है ,जो कि कुछ देर के बाद पता चलता है . आगे पढ़े 

    2 टिप्‍पणियां:

    1. सुन्दर प्रस्तुति। मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।
      http://vangaydinesh.blogspot.in/2012/02/blog-post_25.html
      http://dineshpareek19.blogspot.in/2012/03/blog-post_12.html

      उत्तर देंहटाएं
    2. सार्थक सृजन, आभार.

      कृपया मेरे ब्लॉग"meri kavitayen" की नयी पोस्ट पर भी पधारें

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz