होली पर्व का शून्‍यकाल

नोट लाए हो लेखक, किताबें ले जाओ, बतला रहा है प्रकाशक
होली में खेलने जैसा क्‍या है

अगर होता तो उसका ओलंपिक आयोजित न होता

अथवा होता कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स  ...
और नेताओं को विदेसी खाते भरने का मौका मिलता
रंग में भी ज्‍यादा गुंजायश नहीं है
गुब्‍बारा उतना बड़ा नहीं होता
जितना कॉमनवेल्‍थ का था

बाथरूम्‍स भी फ्लैट के आकार के नहीं होते हैं
कि उनमें लहरें गिनने की उम्‍मीद हो

कोई बॉल नहीं होती
कोई बल्‍ला नहीं होता
कोई सचिन नहीं होता
कोई धोनी नहीं होता

कोई हाकी नहीं होती
सिर्फ होली होती है
वह भी पता नहीं
कब होती है

होली पर सब कुछ
उम्‍मीद से कम ही होता है
चाहत होती है छूने की
देह दूसरे की भिगोने की
पर सब कुछ मना होता है

कीचड़ में लपेटना हो तो
कीचड़ भी सूखा मिलता है
दलदल की जगह
दलिया खिलाया जाता है

खुद पेट भर के नमकीन खाई जाती है
और देसी अथवा विदेशी भी न हो
तो खूब भंग चढ़ाई जाती है

सामने वाले को काली गाजर की
कांजी पिला पिलाकर टरकाया जाता है
डायबिटीज का शिकार होता है वह
उसे गुझिया का भरा थाल दिखाया जाता है

दही भल्‍ले खुद ही खा जाते हैं
खुद को ही शुगर का शिकार
बतलाते हैं
फिर होली में ऐसा क्‍या है

न नोट हैं
न किसी को मार सकते चोट हैं
होली में और कुछ नहीं
सिर्फ खोट ही खोट हैं।

3 टिप्‍पणियां:

  1. होली में पानी भी भांग का नशा देता है....!

    गुझिया गज़ल बन जाती हैं और समोसे दोहे !

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी पोस्ट चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    http://charchamanch.blogspot.com
    चर्चा मंच-812:चर्चाकार-दिलबाग विर्क>

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने के लिए धन्यवाद
लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

 
Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz