फ्री प्रति प्राप्‍त करने के लिए तुरंत प्रकाशक से संपर्क कीजिए : व्‍यंग्‍य का शून्‍यकाल की समीक्षा दैनिक भास्‍कर के रसरंग परिशिष्‍ट में 18 मार्च 2012 को प्रकाशित

 राष्‍ट्रीय दैनिक समाचार पत्र भास्‍कर में ज्‍योतिपर्व प्रकाशन के अंतर्गत प्रकाशित पुस्‍तकों में से सबसे पहली समीक्षा के उल्‍लासमय प्रकाशन अवसर पर ज्‍योतिपर्व प्रकाशन से नि:शुल्‍क प्रति की प्राप्ति के लिए arunroy1974@gmail.com के लिए बधाई देते हुए ई मेल पर रिक्‍वेस्‍ट भेजें और फोन नंबर 09811721147 पर तुरंत फोन कीजिए।
इस पोस्‍ट को अपने अधिक से अधिक मित्रों को शेयर करके ज्‍योतिपर्व प्रकाशन के सुख में भागीदार बनें
मैं यहां भी मिलूंगी

13 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. प्रकाशक की खुशी देखिए उनके फोन संदेश में टपक रही है संतोष भाई

      राष्‍ट्रीय दैनिक समाचार पत्र भास्‍कर में ज्‍योतिपर्व प्रकाशन के अंतर्गत प्रकाशित पुस्‍तकों में से सबसे पहली समीक्षा के उल्‍लासमय प्रकाशन अवसर पर ज्‍योतिपर्व प्रकाशन से नि:शुल्‍क प्रति की प्राप्ति के लिए arunroy1974@gmail.com के लिए बधाई देते हुए ई मेल पर रिक्‍वेस्‍ट भेजें और फोन नंबर 09811721147 पर तुरंत फोन कीजिए।
      इस पोस्‍ट को अपने अधिक से अधिक मित्रों को शेयर करके ज्‍योतिपर्व प्रकाशन के सुख में भागीदार बनें।

      हटाएं
  2. इस सार्थक पोस्ट के लिए बधाई स्वीकार करें.

    उत्तर देंहटाएं
  3. राष्‍ट्रीय दैनिक समाचार पत्र भास्‍कर में ज्‍योतिपर्व प्रकाशन के अंतर्गत प्रकाशित पुस्‍तकों में से सबसे पहली समीक्षा के उल्‍लासमय प्रकाशन अवसर पर ज्‍योतिपर्व प्रकाशन से नि:शुल्‍क प्रति की प्राप्ति के लिए arunroy1974@gmail.com के लिए बधाई देते हुए ई मेल पर रिक्‍वेस्‍ट भेजें और फोन नंबर 09811721147 पर तुरंत फोन कीजिए।
    इस सुखद सूचना को अपने अधिक से अधिक मित्रों को शेयर करके ज्‍योतिपर्व प्रकाशन के सुख में भागीदार बनें।

    यह सूचना फोन पर मित्र के मित्र के माध्‍यम से मिली है,देरी न कीजिएगा।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मुझे भी एक फ्री प्रति दिलवा दीजिये अविनाश जी, मैं भी आपके व्यंग्य की गंगा में डुबकी लगा लूं ....मेरी ओर से भी प्रकाशक और लेखक दोनों को बधाईयाँ !

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने के लिए धन्यवाद
लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

 
Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz