"माँ का बेटा"

Posted on
  • by
  • vijay kumar sappatti
  • in
  • दोस्तों ,
    आज मेरी माँ की बरसी है , उन्हें इस संसार से गए हुए २४ साल हो गए है ...लेकिन मैंने उन्हें हमेशा अपने पास ही पाया . मैं जो कुछ भी हूँ , उनकी वजह से हूँ . मुझमे मौजूद हर अच्छाई , उनकी ही है . मैं भी उनका ही हूँ . आज भी भीड़ भरी जिंदगी में उनके बिना अपना अकेलापन मन को बहुत सीलता है .. बहुत दर्द देता है ... सच में माँ की जगह इस संसार में कोई नहीं ले सकता है ..... उनको प्रणाम .

    मैंने कुछ दिन पहले एक कविता लिखी थी " माँ का बेटा " . वही आज आप सभी के साथ बाँट रहा हूँ.

    "माँ का बेटा"

    वो जो अपनी माँ का एक बेटा था
    वो आज बहुत उदास है !
    बहुत बरस बीते ,
    उसकी माँ कहीं खो गयी थी .....

    उसकी माँ उसे नहलाती ,
    खाना खिलाती , स्कूल भेजती
    और फिर स्कूल से आने के बाद ,
    उसे अपनी गोद में बिठा कर खाना खिलाती
    अपनी मीठी सी आवाज़ में लोरियां सुनाती ..
    और उसे सुलाती , दुनिया की नज़रों से बचाकर ....रखती !!!

    उस बेटे को कभी कुछ माँगना न पड़ा ,
    सब कुछ माँ ही तो थी ,उसके लिए ,
    हमेशा के लिए... उसकी दुनिया बस उसकी माँ ही तो थी
    अपनी माँ से ही सीखा उसने
    सच बोलना , और हँसना
    क्योंकि ,माँ तो उसके आंसुओ को
    कभी आने ही नहीं देती थी
    माँ से ही सीखा ,नम्रता क्या होती है
    और मीठे बोल कैसे बोले जातें है
    माँ से ही सीखा ,
    कि हमेशा सबको क्षमा किया जाए
    और सबसे प्यार किया जाए
    वो जो अपनी माँ का एक बेटा था
    वो आज बहुत उदास है !!

    बहुत बरस बीते ,
    उसकी माँ खो गयी थी ..
    बहुत बरस हुए , उसकी माँ वहां चली गयी थी ,
    जहाँ से कोई वापस नहीं लौटता ,
    शायद ईश्वर को भी अच्छे इंसानों की जरुरत होती है !
    वो जो बच्चा था ,वो अब एक
    मशीनी मानव बना हुआ है ...
    कई बार रोता है तेरे लिए
    तेरी गोद के लिए ...

    आज मैं अकेला हूँ माँ,
    और बहुत उदास भी
    मुझे तेरे बिन कुछ अच्छा नहीं लगता है
    यहाँ कोई नहीं ,जो मुझे ; तुझ जैसा संभाले
    तुम क्या खो गयी ,
    मैं दुनिया के जंगल में खो गया !

    आज ,मुझे तेरी बहुत याद आ रही है माँ !!!

    8 टिप्‍पणियां:

    1. खूब-सूरत प्रस्तुति |
      बहुत-बहुत बधाई ||

      उत्तर देंहटाएं
    2. माँ की यादें सच ही उदास कर जाती हैं ..

      उत्तर देंहटाएं
    3. maa ko meri vinamra shraddhanjali.santan ka maa se nata hi aesa hota jo sadaev jivit rhta hae....

      उत्तर देंहटाएं
    4. मन के भावों को व्यक्त करती बहुत सुंदर प्रस्तुति...

      उत्तर देंहटाएं
    5. माँ को तो कभी भुलाया ही नहीं जा सकता ....

      उत्तर देंहटाएं
    6. bahut sunder bhav..........maa to maa hoti hai usko nahi bhula sakte hai

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz