धन-बल को मिलने वाला मान है भ्रष्टाचार की जड़ ....!

Posted on
  • by
  • डॉ. मोनिका शर्मा
  • in
  • Labels: ,
  • ऐसे देश में भ्रष्टाचार कैसे खत्म हो सकता है ,  जहाँ किसी व्यक्ति का मान उसकी बेटी की शादी में खर्च किये गए धन से निर्धारित होता है |  जहाँ  समाज की नज़र में किसी एक मनुष्य की मनुष्यता बौनी हो जाती है दूसरे के आलीशान मकान के आगे | किसी घर के आगे खड़ी महँगी गाड़िया तय करती हैं कि उसे कितना सम्मान मिलेगा ? किसी परिवार की महिलाओं के  झाले-झुमकों का वज़न तय करता है कि उन्हें मिलने वाले मान-सम्मान का माप-तौल क्या होगा ? पूरी पोस्ट यहाँ पढ़ें...... 

    1 टिप्पणी:

    1. हमरे संस्कारों में भौतिकता की जड़ें बहुत गहरी हैं ,विद्वानों ,संतों ने इसे अध्यात्म द्वारा नियंत्रित करने की बहुत कोशिश की है ,परन्तु असफल रहे हैं , एक तरफ राजा को भौतिकता का प्रतिरूप व अधिकारी स्वरुप नियुक्त किया गया ,उसके साईड- इफेक्ट भी हुए ,अन्य भी राजा की दौड़ में आये ,संघर्ष की जड़ आकार में आई /
      देश -प्रदेश टूटे बने .भौतिकता ने शक्ति को क्रय करना शुरू किया , इस निहितार्थ संघों ने रूप लिया , राजनीती आई ,संबंधों ने विद्रूपता का स्वरुप लिया ,आज प्रत्येक व्यक्ति राजा -राजनीती के पनाह में है ,......संत और चोर वही,प्रकारांतर से प्रतिष्ठित है जो ,जो भौतिक स्वरुप से बृहद आकार में है ...../ यह तो होना ही था ......जब तक नैतिक,अध्यात्म का ज्ञान नहीं ...भ्रष्टाचार का समापन कहाँ .....मंजिल अभी दूर है .....विवेका नन्द , भगत सिंह ने शायद अभी गर्भ-नाल में आकार नहीं लिया है .... शुक्रिया जी /

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz