लूट तो सभी रहे हैं, कोई नहीं छोड़ रहा है लूटने का मौका : कोई देश लूट रहा है कोई देशवासियों को ???

Posted on
  • by
  • अविनाश वाचस्पति
  • in
  • Labels: , ,
  • साजिश पड़ोसी की नहीं
    बिजली कंपनियों की है
    सब एकजुट हो जाइए
    मिलकर एक अभियान चलाइए

    बनाना पड़े तो 
    इसके निवारण के लिए
    एक चिट्ठा बनाइये
    फेसबुक पर बनाइये एक समूह
    ट्विटर पर जगाइये 

    कुछ भी करिए
    खुद को लुटने से
    जरूर बचाइए

    मत िकहिएगा खबर न हुई।

    3 टिप्‍पणियां:

    1. बड़े काम की हैं जी ये खबर तो .....आभार

      उत्तर देंहटाएं
    2. ऐसे लोग भी अन्ना के समर्थक हैं !

      उत्तर देंहटाएं
    3. लूट तेरे तरीके हजार ....
      ये तो वही बात हुई ना... तू डाल - डाल , मैं पात - पात ..

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz