युग और जीवन की प्रवृतियों का दर्पण है एक किताब

Posted on
  • by
  • ravindra prabhat
  • in
  • Labels:

  • समकालीन युग और जीवन की प्रवृतियों का दर्पण है एक 

    किताब,जो  वस्तुत: ग्रामीण परिवेश की परिस्थितियों से उत्पन्न विविध प्रकार के भौंजालों के बीच विवशता भरी छटपटाहट का खुला दस्तावेज  है, जिसमें जातीय संघर्ष, अनुसूचित जन-समुदाय के शोषण,कलह,ईर्ष्या,वर्ण-व्यवस्था से ग्रस्त जन-मानस की कुंठाओं एवं संत्रासों का सहज उदघाटन हो जाता है। 

    0 comments:

    एक टिप्पणी भेजें

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz