भूपेन हजारिका दिलों में बसे हुए हैं और दिल की बस्‍ती में बसने वाले कहीं जाया नहीं करते - अविनाश वाचस्‍पति

Posted on
  • by
  • अविनाश वाचस्पति
  • in
  • Labels: , ,
  • भूपेन दा से कई बार साक्षात मिलना हुआ। वे विनम्रता और सौजन्‍यता की प्रतिमूर्ति, जिससे मिलते उसके दिल में बस जाते थे और दिल की बस्‍ती में बसने वाले कहीं नहीं जाते हैं। वे दिल में ही रहते हैं, जब चाहे गर्दन झुकाई और दीदार कर लिया। दिल यह मानने के लिए तैयार नहीं है कि वे चले गए हैं। वे यहीं हैं, यहीं हैं और सदा यहीं रहेंगे।  
    - अविनाश वाचस्‍पति, नुक्‍कड़ मॉडरेटर की विनम्र श्रद्धांजलि


    १९९२ में दादा साहब फाल्के पुरस्कार और पद्म भूषण से नवाजे जा चुके 86 वर्षीय हजारिका का 29 जून से अस्पताल में उपचार चल रहा था। हजारिका देश के ऐसे विलक्षण कलाकार थे, जो अपने गीत खुद लिखते थे, संगीतबद्ध करते थे और गाते थे। 
    मशहूर गजल गायक जगजीत सिंह के निधन के बाद देश ने एक और ख्यात गायक को खो दिया। पिछले कई दिनों से जिंदगी और मौत से जूझ रहे जानेमाने गायक भूपेन हजारिका का शनिवार को निधन हो गया। कई दिनों हजारिका की हालत गंभीर बनी हुई थी।
    वे मुंबई के कोकिलाबेन धीरूभाई अंबानी अस्पताल में भर्ती थे और डायलिसिस पर थे। निमोनिया होने के बाद 23 अक्टूबर को हजारिका की हालत बिगड़ गई थी। उनकी एक मामूली सर्जरी करनी पड़ी। उन्हें संक्रमण था। 
    हजारिका का जन्म असम के सादिया में हुआ था। बचपन में ही उन्होंने अपना प्रथम गीत लिखा और दस वर्ष की आयु में उसे गाया। साथ ही उन्होंने असमिया चलचित्र की दूसरी फिल्म इंद्रमालती के लिए 1939 में बारह वर्ष की आयु में भी काम भी किया।
    उन्होंने न सिर्फ गीत लिखे बल्कि कविता लेखन, पत्रकारिता, गायन, फिल्म निर्माण आदि अनेक क्षेत्रों में काम किया। हजारे को इस साल अपना जन्मदिन भी अस्पताल में ही मनाना पड़ा। उनका जन्मदिन आठ सितंबर को पड़ता था। इस दिन वे अस्पताल में ही भर्ती थे।  
    भूपेन हजारिका ने बनारस हिंदू विश्वविद्यालय से बीए और एमए किया था। हजारिका ने अमेरिका के कोलंबिया विश्वविद्यालय से पीएचडी की थी। 

    6 टिप्‍पणियां:

    1. भूपेन हजारिका जैसी आवाज़ें पैदा होने में सदियां लगती हैं. नमन.

      उत्तर देंहटाएं
    2. भूपेन हजारिका भारतीय संस्कृति के महान गीतकार और महान गायक थे.उनके देहावसान से देश के समृद्ध कला जगत के एक सुनहरे युग का अंत हो गया . अश्रुपूरित विनम्र श्रद्धांजलि .

      उत्तर देंहटाएं
    3. भावभीनी श्रद्धांजलि.....

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz