साथी कोई मिल जाए प्यारा

Posted on
  • by
  • SUMIT PRATAP SINGH
  • in
  • अभी जीवन जो पड़ा है
    अकेले में लफड़ा बड़ा है
    कोई साथ हो जाए यारा
    साथी कोई मिल जाए प्यारा...आगे पढ़ें

    3 टिप्‍पणियां:

    1. वाह ...बेहतरीन प्रस्‍तुति

      उत्तर देंहटाएं
    2. sumit ji,

      sundar rachna ke liye badhai sweekaren.
      मेरी १०० वीं पोस्ट , पर आप सादर आमंत्रित हैं

      **************

      ब्लॉग पर यह मेरी १००वीं प्रविष्टि है / अच्छा या बुरा , पहला शतक ! आपकी टिप्पणियों ने मेरा लगातार मार्गदर्शन तथा उत्साहवर्धन किया है /अपनी अब तक की " काव्य यात्रा " पर आपसे बेबाक प्रतिक्रिया की अपेक्षा करता हूँ / यदि मेरे प्रयास में कोई त्रुटियाँ हैं,तो उनसे भी अवश्य अवगत कराएं , आपका हर फैसला शिरोधार्य होगा . साभार - एस . एन . शुक्ल

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz