एक पत्र आधुनिक नेता के नाम

Posted on
  • by
  • SUMIT PRATAP SINGH
  • in
  • प्यारे आधुनिक नेता
    सादर घोटालस्ते!
    आपके चमचों से ज्ञात हुआ कि इन दिनों आप बहुत नाराज चल रहे हैं.क्या रामलीला मैदान में कुछ महानुभावों के द्वारा सच का सामना कराये जाने से कुपित हो गए हैं. आप जैसी दिव्यात्माओं को ऐसी छोटी-मोटी बातों पर कतई ध्यान नहीं देना चाहिए. अरे ऐसी छोटी-मोटी बातें तो भारत के हर घर में ही होती और होती रहेंगी. यदि आपको किसी ने चेहरे बदलने वाला कह दिया तो उससे कहिये कि यदि उसमें सामर्थ्य हम हो तो वो भी यह चमत्कार कर के दिखलाये और जो कर पाये तो अपने मुहं को बंद ही रखे. आपको अनपढ़ गंवार जिन्होंने कहा...आगे पढ़ें...

    2 टिप्‍पणियां:

    1. फिर दिया अवसर आतंकियों ने हम भारतीयों को संवेदनाएं प्रकट करने/कराने का...
      एक और आतंकी हमले को दिया अंजाम...
      दिल्ली हाई कोर्ट के बाहर धमाका...
      अब बयान बाजी शुरू होगी-
      प्रधानमंत्री ...... हम आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा देंगे ...
      दिग्गी ...... इस में आर एस एस का हाथ हो सकता है
      चिदम्बरम ..... ऐसे छोटे मोटे धमाके होते रहते है..
      राहुल बाबा ..... हर धमाके को रोका नही जा सकता...
      आपको पता है कि दिल्ली पुलिस कहाँ थी?
      अन्ना, बाबा रामदेव, केजरीवाल को नीचा दिखाने में ?

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz