ब्लोगिंग को सार्थक करता एक ब्लॉग

Posted on
  • by
  • अविनाश वाचस्पति
  • in
  • Labels:
  • "यदि आप ब्लॉग जगत के महत्व को नज़दीक से समझना चाहते हों और हिंदी ब्लोगिंग की दशा एवं दिशा को निरखना चाहते हों , तो परिकल्पना एक अपरिहार्य माध्यम के रूप में आपके सामने मौजूद है !"


    ब्लोगिंग को सार्थक करता एक ब्लॉग  

    किसने कहा और कहाँ हई है ऐसी चर्चा आप खुद पढ़िए : 



    12 टिप्‍पणियां:

    1. रवीन्द्र प्रभात जी की परिकल्पना के हम भी मुरीद हैं , यह अच्छी खबर है ब्लॉग जगत के लिए !

      उत्तर देंहटाएं
    2. वाह जी बल्ले बल्ले वाह जी बल्ले बल्ले वाह जी बल्ले बल्ले
      वाह जी बल्ले बल्ले वाह जी बल्ले बल्ले वाह जी बल्ले बल्ले
      वाह जी बल्ले बल्ले वाह जी बल्ले बल्ले वाह जी बल्ले बल्ले
      वाह जी बल्ले बल्ले वाह जी बल्ले बल्ले वाह जी बल्ले बल्ले

      उत्तर देंहटाएं
    3. ल्ले बल्ले वाह जी बल्ले बल्ले वाह जी बल्ले बल्ले
      वाह जी बल्ले बल्ले वाह जी बल्ले बल्ले वाह जी बल्ले बल्ले
      वाह जी बल्ले बल्ले वाह जी बल्ले बल्ले वाह जी बल्ले बल्ले

      ल्ले बल्ले वाह जी बल्ले बल्ले वाह जी बल्ले बल्ले
      वाह जी बल्ले बल्ले वाह जी बल्ले बल्ले वाह जी बल्ले बल्ले
      वाह जी बल्ले बल्ले वाह जी बल्ले बल्ले वाह जी बल्ले बल्ले

      ल्ले बल्ले वाह जी बल्ले बल्ले वाह जी बल्ले बल्ले
      वाह जी बल्ले बल्ले वाह जी बल्ले बल्ले वाह जी बल्ले बल्ले
      वाह जी बल्ले बल्ले वाह जी बल्ले बल्ले वाह जी बल्ले बल्ले

      उत्तर देंहटाएं
    4. रवीन्द्र प्रभात जी dwara हिंदी ब्लाग जगत के लिए किये गए एवं किये जा रहे कार्य अतिसराहनीय हैं | बहुत-बहुत हार्दिक धन्यवाद

      उत्तर देंहटाएं
    5. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
      प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
      कल (2-3-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
      देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
      अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

      http://charchamanch.blogspot.com/

      उत्तर देंहटाएं
    6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति|

      महाशिवरात्री की हार्दिक शुभकामनाएँ|

      उत्तर देंहटाएं
    7. रविन्द्र जी के क्या कहने..आज पढ़ा यह.

      उत्तर देंहटाएं
    8. बहुत बढ़िया... परिकल्पना पर एक बहुत ही बेहतरीन लेख के लिए बहुत-बहुत बधाई!!!

      उत्तर देंहटाएं
    9. parikalpaan'' ka jitana samman kiya jaye, kam hi hai. ravindra prabhat ki jai ho....

      उत्तर देंहटाएं
    10. रविंद्र जी क्या कहने आपके बल्ले बल्ले तो सबने कर दिया हम तो शावा , शावा भई शावा शावा से ही संतुष्ट हो लेंगें

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz