" विशिष्ट पद रचना रीति :"

Posted on
  • by
  • Anil Attri
  • in
  • " विशिष्ट पद रचना रीति :" आचार्य वामन
    रीति सम्प्रदाय के प्रवर्तक आचार्य वामन ने "रीतिरात्मा काव्यस्य " कहकर रीति को काव्य कि आत्मा माना I वामन ने गुणों से सम्पन्न पदरचना को रीति कहा I इनका कथन हैं कि जेसे रेखाओं मैं चित्र समाविष्ट हो जाता हैं उसी प्रकार वेदर्भी , गोड़ी , पांचाली इन रीतियों मैं पूरा काव्य समा जाता हैं I वे तो यहाँ तक कहते हैं कि सर्वगुण सम्पन्न वेदर्भी रीति से युक्त होने पर तुच्छ काव्य भी आनन्द वर्षण करने लगता हैं ............
    बाकी जानकारी लिंक मैं " विशिष्ट पद रचना रीति :" Link: http://anilattrihindidelhi.blogspot.com/2011/02/blog-post_13.html


    अनिल अत्री दिल्ली

    0 comments:

    एक टिप्पणी भेजें

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz