राजधानी में धडल्ले से चल रहा है यमुना से रेत की चोरी का काला कारोबार Pkg-1

Posted on
  • by
  • Anil Attri
  • in



  • Pkg -1

    राजधानी में धडल्ले से चल रहा है यमुना से रेत की चोरी का काला कारोबार ----यहाँ रोज यमुना से सैकड़ों ट्रैक्टर हजारों टन रेत की सरेआम चोरी कर न सिर्फ यमुना को नुकसान पहुंचा रहे हैं बल्कि राजस्व की भी चोरी कर सरकार को भी चुना लगा रहें हैं ---ऐसा नहीं है की प्रशासन को सरेआम होनेवाली इस चोरी का पता नहीं है ----मगर दर्जनों शिकायतों के बाद भी प्रशासन इस ओर से आँखे मूंदे बैठा है ये गोरखधंधा लगातार फल फुल रहा है ---
    वी ओ 1 ये नजारा है यमुना के किनारे का ----यहाँ रोज धडल्ले से इसी तरह से सैकड़ों ट्रैक्टर अवैध रूप से रेत का खनन कर यमुना का सीना छलनी कर रहे हैं --- क्या दिन, क्या रात --यहाँ चौबीसों घंटे रेत चोरी करने वाले ट्रैक्टरों का इसी तरह से जमघट लगा रहता है ----इतना ही नहीं ये ट्रैक्टर यहाँ से रेत निकाल कर सरेआम प्रशासन के आँखों के सामने आस पास के इलाकों में रेत पहुंचाते हैं ---यमुना के आस पास के गावों में लगभग हर घर में इस रेत के ढेर(स्टोक )देखे जा सकते है ----- रेत का ये काला कारोबार केवल ..... इलाके में ही हो रहा है ऐसा नहीं है ---- यहाँ तो पुरे कुऐं में ही भंग घुटी पड़ी है ----राजधानी में ........ से पहले यमुना के किनारे इन रेत माफियाओं को जहाँ भी जगह मिलता है वहीँ से चोरी का काम शुरू हो जाता है ---- आइये अब हम आपको लिए चलते हैं यमुना के उस किनारे पर जो ......... ---यहाँ रेत चोरी का काम और भी सुनियोजित और संगठित रूप से चलता है ----यहाँ से रेत निकलने के लिए बकायदा JCB मशीनों का सहारा लिया जाता है --वो भी एक दो नहीं बल्कि एक साथ कई मशीने यहाँ यमुना का सीना चाक करती हैं ----
    शिकायतकर्ता- में कई शिकायतें की लेकिन कभी कोइ करवाई नहीं हुयी... करवाई के नाम पर केवल एक दो ट्रेक्टर पकड़ लेते है और फिर छोड़ देतें है...कभी किसी को गिरफ्तार नहीं किया गया...)
    इन रेत माफियाओं के लिए तो ये महज पैसा बनाने का जरिया है... पैसे की अंधी दोड़ इन्हें नहीं मालूम की ये क्या कर रहे है...लेकिन जेबीसी के साथ लगे इन लोगों को अच्छी तरह मालूम है की अवैध है...लेकिन फिर भी इन्हें किसी का कोइ डर नहीं...जाहिर है पुलिस प्रशासन से इनकी मिलीभगत है...वरना इस पर भला कोण विश्वाश कर सकता है की इतनी बड़े पैमने पर रेत का अवैध खनन हो रहा हो और पुलिस प्रशासन को इसकी खबर ही न हो....लिहाज़ा पूरी सुनियोजित तरीके से काम कर रहे माफिया को छोड़कर ये छोटे मोती मामले ही दिखावे के तौर पर दर्ज का लेती है...लेकिन इस पर कितने बड़े ... कड़े कानून है इसकी जानकारी तक पुलिस प्रशासन को भी शायद ही हो...अवैध खनन को लेकर बने कानून के अलावा यह पर्यावरण अधिनियमों की परिधि में भी आता है...अब दिल्ली सरकार भी मानती है की इस पर गंभीर कदम उठाने की जरूरत है...
    बाईट---- हरी शंकर गुप्ता ( चैयरमेन , पर्यावरण समिति, दिल्ली सरकार - कुछ रेत निकालने के लिए तो बाकायदा टेंडर होतें है..लेकिन आज जगह जगह अवैध खनना हो रहा है..राजस्व का खी नुक्सान नहीं हो रहा बल्कि यमुना की शक्ल बिगड़ती है...दिल्ली से बहार के लोग भी इल्लीगल माईनिंग कर रहे है..अबुत लोग पकडे भी गए है...अब कोइ पुख्ता योजना बनाने की जरूरत है...)
    ............-प्रशासन कार्यवाही के नाम पर कभी तो एक या दो ट्रैक्टरों को तो हिरासत में ले लेता है मगर आज तक इन शिकायतों पर किसी की गिरफ़्तारी तक नहीं हुई है जो प्रशासन के नियत पर ही सवालिया निशान लगा रहा है ----सवाल केवल यह नहीं है की यह सब प्रशासन की स्वीक्रति से चल रहा है या सांझेदारी से...बड़ा सवाल यह भी है की देश की राजधानी दिल्ली में ही पर्यावरण की धज्जियाँ उड़ रही हो तो देश के बाकि हिस्सों में इसे कितनी गंभीरता से लिया जाता होगा...

    अनिल अत्तरी दिल्ली .....................

    0 comments:

    एक टिप्पणी भेजें

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz