आप ब्लागर हैं ! तो यह जानकारी आपको भी होनी ही चाहिये.

Posted on
  • by
  • Kajal Kumar
  • in
  • Labels: , , , , ,

  • 7 इंच स्क्रीन वाला टच पैड जिसे टैबलेट कहा जाता है, भारत आ पहुंचा है. ये हैं सैमसंग का Galaxy Touch Pad व Olive कंपनी का OlivePad. इनके अतिरिक्त बीनाटोन व एक अन्य कंपनी का टेबलेट भी भारत में उपलब्ध होने की ख़बर है पर इनकी वास्तविक जानकारी किसी को नहीं है. 7 इंच वाले टेबलेट अभी नई चीज़ है बाज़ार में.

    टैबलेट को बाजार में प्रसिद्ध करने का श्रेय नि:संदेह iPad को जाता है जो 11 इंच स्क्रीन का है लेकिन इसमें कई फ़ीचर नहीं हैं जो 7 इंच के टैबलेट में हैं. iPad की कमियां जग-जाहिर हो चुकी हैं.

    सैमसंग व ओलिव पैड के 7 इंची इन टेबलेट की खूबियां ये हैं:-
    0- इनमें चार चीज़ें एक साथ समाहित हैं जो हैं - 3MP कैमरा (स्टिल व मूवी दोनों), वाई-फ़ाई इंटरनेट, ई-बुक रीडर, व 3G फ़ोन. अगर आप आमतौर से यात्रा करते हैं तो यह आपके लिए वरदान है क्योंकि आप डायरी के साइज़ वाले इस एक ही गैजेट  में ये चार चीज़ें एकसाथ ले जा सकते हैं.
    0- इसके अलावा एक, कम पिक्सेल वाला कैमरा सामने की ओर अलग से है जो इंटरनैट चैटिंग या वीडयो वार्ता के लिए प्रयोग किया जा सकता है.
    0- ये एंड्रोयड के 2.2 संस्करण पर चलते हैं इसलिए आप लीनिक्स की ही तरह हज़ारों साफ़्टवेयर मुफ़्त में डाउनलोड कर सकते हैं.
    0- इनकी इंटरनेट कनेक्टीविटी आम डैस्कटाप या लैपटाप जैसी ही अच्छी है.
    0- ये iPad या Kindle की तरह locked device नहीं हैं. इन घोड़ों की लगाम एकदम आपके हाथ रहती है.
    0- इनमें दो पिद्दे से स्टीरियो स्पीकर तो हैं ही, आप हैडफ़ोन या ब्लूटूथ से भी आवाज़ सुन सकते हैं/  बात कर सकते हैं.
    0- इनमें मोबाइल फ़ोन के बाक़ी सभी फ़ीचर हैं जो आप सोच सकते हैं जैसे रिकार्डर, प्लेयर आदि.
    0- 3G कार्ड होने के कारण आप भी इसमें ब्लैकबेरी जैसे नखरे का मज़ा ले सकते हैं (ब्लैकबेरी में आपको तब-तब सूचना मिल जाती है जब-जब आपको इ-मेल आती है. मोबाइल में आप केवल इंटरनेट कनेक्ट करके ही देख सकते है कि मेल आई है लेकिन आप जितनी देर इंटरनेट से कनेक्ट रहते हैं आपका मीटर चलता रहता है. 3G में दो फंडे होते हैं पहला, आम मोबाइल की तरह का रीचार्ज, जो आपके बात करने या इंटरनेट कनेक्ट करने से पैसा घटाता है. जबकि दूसरा रीचार्ज केवल डेटा डाउनलोड के ही समय पैसा घटाता है. इसलिए जैसे ही आपके लिए ई-मेल आती है तो आपका मोबाइल 3G डेटा कनेक्शन उसी समय सूचना देता है. ब्लैकबेरी में भी, बाक़ी फ़ोनों के अलावा, यही एक अलग बात है, बस.) तो भक्तजनो ! 3G में दो तरह के रीचार्ज कूपन डलते हैं. आवाज वाला तो कई साल की वैलेडिटी का होता है पर डेटा वाला 30 दिन के लिए ही है अभी (आगे चलकर ये ऊंट भी पहाड़ के नीचे आ जाएगा, चिंता न करें). अभी स्कीम 100 रूपये से शुरू होती है.  30 दिन की समाप्ति के बाद भी आप को 3G सुविधा मिलती रहती है पर तब आपका बात करने वाला पैसा घटना शुरू हो जाता है, जिसकी दर कुछ ज़्यादा होती है. अभी भारत में MTNL – BSNL का 3G पर एकाधिकार है पर शायद जल्दी दूसरों की किस्मत खुल जाए, कौन जाने.
    0- ये लैपटाप की तरह, बटन दबाते ही, स्लीप मोड में जा सकते हैं इसलिए इन्हें बार-बार आन-आफ़ करने से भी पीछा छूट जाता है.
    0- एक बार चार्ज करके आप इन्हें 4-6 घंटे लगातार चला सकते हैं. स्टैंडबाई मोड में तो ये 400 घंटे से ज़्यादा चलने का दावा करते हैं.
    0- इनके ई-बुक रीडर बहुत उपयोगी हैं ये पिछला पढ़ा पन्ना याद रखते हैं इसलिए अगली बार ठीक वहीं से खुलते हैं जहां आपने पढ़ना छोड़ा था. आप इसमें फांट, उनका रंग व  साइज तो खुद तय कर ही सकते हैं, बैकग्राउंड रंग भी तय कर सकते हैं.
    0- इनमें 32 GB के, मोबाइल में डलने वाले SD कार्ड अलग से डाले जा सकते हैं (मेरे ख़्याल से भले आदमियों के लिए अभी इतनी मेमोरी काफी है, इतनी ही अधिकतम मेमारी iPad में आती है लेकिन उसे आप सेट से बाहर निकाल नहीं सकते)
    0- इनमें आप माइक्रोसोफ़्ट व पी डी एफ़ दस्तावेज पढ़ सकते हैं. doc, excel व powerpoint में तो आप इनमें लिख भी सकते हैं.
    0- इनके स्क्रीन पर आने वाले की-बोर्ड बहुत सुविधा जनक हैं, आप आराम से टाइप कर सकते हैं.
    0- आप इन्हें सीधे ही, आम कंप्यूटर से USB ड्राइव की ही तरह कनेक्ट कर इनके SD कार्ड पर/ से कट-कापी-पेस्ट भी कर सकते हैं.

    दूसरे फ़ायदे
    0 आप इन्हें किताब ही की तरह कहीं भी किसी भी करवट लेट कर पढ़ सकते हैं (जो लैपटाप व डैस्कटाप में संभव नहीं ).
    0 ओलिव पैड तो यह भी बताता है कि आपने फ़लां फ़ोटो कहां व कब खींची थी, बाक़ायदा नक्शे पर. (मैं तो हैरान ही रह गया था).
    0 ओलिव पैड में MapMyIndia.com का 2 GB डेटा अलग से दिया है इसलिए आप भारत में कहीं की भी यात्रा इसमें दिए नक़्शों के आधार पर कर सकते हैं. आपको गूगलमैप व इंटरनैट कनेक्टीविटी पर निर्भर रहने की ज़रूरत नहीं बची.
    0 जहां 3G कनेक्शन नहीं हो तो वहां 2G पर भी काम करते हैं ये पैड. इनका वज़न पौने चार सौ ग्राम है. शीशे की capacitive स्क्रीन हैं जो, सस्ती resistive की तुलना में कहीं अच्छी मानी जाती हैं.
    0 ई-बुक पढ़ना कहीं आसान है क्योंकि इनमें फ़ोंट किताबों से भी बड़े दिखाई देते हैं.
    0 इनमें पेज अपनी डायरेक्शन, टैबलेट को घुमाने के हिसाब से बदल लेते हैं इसलिए आप इन्हें आड़ा या तिरछा कैसे भी पढ़
     सकते हैं.
    0 ओपेरा ब्राउज़र डाउनलोड कर लें तो यह अपनी चौड़ाई के हिसाब से बेबसाइट के शब्दों को फिट कर लेता है इसलिए आपको केवल पेज ऊपर नीचे करना होता है दाएं-बांए नहीं.
    0 ये GPS सेवा से भी जोड़े जा सकते हैं.
    0 इनमें और भी बहुत कुछ है जिनके बारे में मुझे ख़ुद ही पता नहीं. आए दिन नई नई चीज़ें पता लगती रहती हैं इनके बारे में.

    ओलिव पैड व सैमसंग गैलेक्सी टच की तुलना
    0 ओलिव पैड में flash 10.1 नहीं चलता है इसलिए इंटरनेट पर वीडियो टीवी नहीं देखा जा सकता लेकिन skyfire ब्राउज़र से यह समस्या दूर हो जाती है, बल्कि स्काइफायर तो फ्रेम भी ड्राप नहीं होने देता. सैमसंग गैलेक्सी टच में फलैश राजीखुशी चलता है.
    0 ओलिव पैड made in china है जिसे भारतीय कंपनी, Haier के सहयोग से बना रही है लेकिन डरें नहीं, इसकी क्वालिटी उस तरह की चाइनीज़ नहीं है जैसी कि इसकी मशहूरी है. निश्चिंत रहें, मैं इसे पिछले लगभग दो महीने से प्रयोग कर रहा हूं, यह बल्ले बल्ले प्रोडक्ट है. सैमसंग गैलेक्सी टच का अपना नाम है व विज्ञापन भी खूब आता है पर सैमसंग इसे न तो मोबाइल बताता है न टैबलेट, सैमसंग दोनों श्रेणियों के ग्राहकों को आकर्षित करने की उम्मीद में ऐसा किये बैठा है, जबकि सच यही है कि ये मोबाइल फ़ोन का स्थानापन्न नहीं ही है.
    0 ओलिव पैड के प्रोसेसर की गति कम है सैमसंग गैलेक्सी टच की कुछ ज़्यादा पर ये फ़र्क़ उन्हें ही पता लगता है जिनका काम ही ये पता लगाना है. आपको  और मुझे यह फ़र्क़ पता ही नहीं चलता, इसलिए यह बेमानी है.
    0 इसी तरह ओलिव पैड की  आन बोर्ड मैमोरी 512 MB है इतनी ही ये एस डी कार्ड से भी ले लेता है.  गैलेक्सी टच की 2GB है पर तब तक कोई खास फ़र्क़ तब तक नहीं पड़ता जब तक कि आप इनपर फूं-फां टाइप गेम खेलने की ज़िद न करें. मेरे ख़्याल से यह गैजैट इस तरह के खिलाड़ियों के लिए बनाया भी नहीं गया है.

    सबसे बड़ी कमजोरी
    0 एंड्रोयड के कारण अभी भारतीय भाषाएं, हिन्दी सहित, अभी इस पर नहीं चलती हैं. इसलिए आप हिन्दी वेबपेज नहीं पढ़ सकते.
    0 इन पर किताबें पढ़ने से आंखें जल्दी थकती हैं पर हां, रोशनी पर्याप्त होने पर यह समस्या इतनी भी बड़ी नहीं लगती. यही समस्या लैपटाप पर भी यूं तो है ही.

    दोनों में सबसे बड़ा अंतर
    ओलिव पैड 23 हज़ार का है तो सैमसंग गैलेक्सी टच 37-38 हज़ार का. ओलिव पैड ने मुझे 16 GB का एस डी कार्ड मुफ़्त दिया तो कीमत रह गई 21.5 हज़ार. अब आप करीब 15 हज़ार रूपये यूं ही ज़्यादा ख़र्च करने के मूड में हो तो आपको सैमसंग ही लेना चाहिये वरना ओलिव पैड दा जवाब नईं. मेरे हिसाब से सैमसंग कहीं अधिक महंगा टेबलेट है जिसे ख़रीदना सझदारी के अलावा ही कुछ और कहा जाएगा. ओलिव पैड वालों की साइट ये है http://www.olivetelecom.in/ सैमसंग के बारे में कहने की ज़रूरत नहीं है.
    0---------0

    11 टिप्‍पणियां:

    1. बहुत उपयोगी है मगर कीमत बहुत ज्यादा है!
      फिर तो नेटडायरी लेना ही ठीक रहेगा!

      उत्तर देंहटाएं
    2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

      उत्तर देंहटाएं

    3. काजल गुरु !
      आपने बड़ी अच्छी जानकारी दी है महाराज ! चेलों को यह बता दिया करो कि और कब , कहाँ लिखते हो ! जहाँ तक मुझे पता है आपके वेब पेज पर तो केवल कार्टून ही हैं !
      बधाई बढ़िया लेखन के लिए !

      उत्तर देंहटाएं
    4. बहुत अच्छी जानकारी है पर अभी तो लैपटॉप से ही काम चल रहा है ... देखते हैं भविष्य में ...

      उत्तर देंहटाएं
    5. जानकारी तो बेहद उपयोगी लग रही है लेकिन यदि हिन्दी नहीँ चले तो हिन्दी ब्लागर के काम कैसे आवेगी ? कीमत अधिक होना भी सामान्यजन की एक अन्य समस्या दिखती है ।

      उत्तर देंहटाएं
    6. @ भाई सतीश जी :)
      आपको तो पता ही है कि मैं लेखक नहीं हूं...अलबत्ता कभी कभार कुछ-कुछ यूं ही कह लेता हूं. एक तो 'नुक्कड़' पर ही (अविनाश जी का स्नेह है कि मुझे allow कर रखा है) दूसरे, एक ब्लाग http://sahibaat.blogspot.com/ बना रखा है उसपर भी यही सब चिपका देता हूं :-)

      उत्तर देंहटाएं
    7. इस बार के चर्चा मंच पर आपके लिये कुछ विशेष
      आकर्षण है तो एक बार आइये जरूर और देखिये
      क्या आपको ये आकर्षण बांध पाया ……………
      आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
      प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
      कल (20/12/2010) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
      देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
      अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
      http://charchamanch.uchcharan.com

      उत्तर देंहटाएं
    8. कई लोगों ने मुझसे भी जानकारी लेनी चाही है. इतना बताने से अच्छा है यह लिंक फॉरवर्ड कर दिया जाये

      उत्तर देंहटाएं
    9. "मेर्री क्रिसमस" की बहुत बहुत शुभकामनाये !

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz