अब रिश्ते भी गणित हो गए |

Posted on
  • by
  • beena
  • in
  • हाँ जब मैं छोटी थी

    माँ हर बात पर कहती थी

    रिश्ते रिश्ते होते हैं

    कोई दो दूनी चार के फार्मूले

    नहीं हुआ करते|

    ये तुम्हारे सवाल नहीं है

    जिनके उत्तर अन्तिम पृष्ठ पर छपे हो

    और तुम सवाल ना कर पाओ

    तो झट उत्तर टीप लो|

    हर रिश्ते की गरिमा और उसका वजूद

    अपनी शिद्दत से महसूस कर पाते थे|

    घर मेंशादी हो ,ताऊ-चाचा,बुआ

    मामा,मौसी के यहाँ

    भाई बहिन काजन्म हो|

    हर बार हमारा जाना सुनिशिचित था|

    और रिश्तों की गर्माहट से

    और हरहराहट से जिंदादिल होते हम

    एक और अवसर की प्रतीक्षा में

    खाना -पीना सब भूल जाते|

    अब नाते -रिश्तों का क्या

    सब भौतिकता निगल गई

    अब तय होते हैं रिश्ते

    संबंधों से नहीं

    खून से नहीं

    केवल और केवल आपके

    स्टेटस से,

    स्वार्थ से ,

    मतलब से

    अब वाकई रिश्ते गणित हो गए

    6 टिप्‍पणियां:

    1. shi khaa rishton ka yeh bdltaa rup he jise aapne jivnt alfaazon men chitrit kr diya he . mubark ho. akhtar khan akela kota rajsthan

      उत्तर देंहटाएं
    2. kaise rishto ko kar diya chinhit
      ho gaye rishte bhi ab ganit...
      good collection mr akela.....

      उत्तर देंहटाएं
    3. आप तो ताऊ, चाचा, बुआ, मामा, मौसी के ही उदाहरण दे रहे हैं । अब तो देखने में ये आ रहा है कि सगे माँ-बाप तक तो सिर्फ आर्थिक वसूली के माध्यम और घर की जिम्मेदारी व औलाद को सम्हालने के काम की चीज भर रह गए हैं । हाँ माँ-बाप से ज्यादा आदरणीय वे सास-ससुर हो रहे हैं जिन्होंने हमारे लिये बीबी जैसी चीज की व्यवस्था की हो । आखिर स्वार्थ की पराकाष्टा के युग में ही तो हम रह रहे हैं ।

      उत्तर देंहटाएं
    4. रिश्ते अब रिसने लगे हैं , क्या कहा जा सकता है ...सब कुछ गणित हो गया है ...जिसको जहाँ लाभ वहां रिश्ता ..शुक्रिया

      उत्तर देंहटाएं
    5. Bahut sunder... Badalte samay me na jane aur kitna aur kya-kya badlega....? yani ki ganit ho jayega.... achhi lagi rachna

      उत्तर देंहटाएं
    6. बिलकुल सही कहा आज रिश्ते गणित ही हो गए है | किसी से रिश्ता जोड़ना हो या तोड़ना किसी से बढ़ाना पहले फायदों का गुना जोड़ घटा करने के बाद ही उसे जोड़े तोड़े और बढ़ाये जाते है |

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz