Posted on
  • by
  • विवेक शर्मा
  • in
  • हे भारत माँ शत-शत बार प्रणाम
    ऐ अमरों की जननी, तुमको शत-शत बार प्रणाम,
    भारत माँ  शत-शत बार प्रणाम।
    तेरे उर में शायित गांधी, 'बुद्ध औ' राम,
    भारत माँ शत-शत बार प्रणाम।
    हिमगिरि-सा उन्नत तव मस्तक,
    तेरे चरण चूमता सागर,
    श्वासों में हैं वेद-ऋचाएँ
    वाणी में है गीता का स्वर।
    ऐ संसृति की आदि तपस्विनि, तेजस्विनि अभिराम।
    भारत माँ शत-शत बार प्रणाम।
    हरे-भरे हैं खेत सुहाने,
    फल-फूलों से युत वन-उपवन,
    तेरे अंदर भरा हुआ है
    खनिजों का कितना व्यापक धन।
    मुक्त-हस्त तू बाँट रही है सुख-संपत्ति, धन-धाम।
    भारत माँ शत-शत बार प्रणाम।
    प्रेम-दया का इष्ट लिए तू,
    सत्य-अहिंसा तेरा संयम,
    नयी चेतना, नयी स्फूर्ति-युत
    तुझमें चिर विकास का है क्रम।
    चिर नवीन तू, ज़रा-मरण से -
    मुक्त, सबल उद्दाम, भारत माँ शत-शत बार प्रणाम।
    एक हाथ में न्याय-पताका,
    ज्ञान-द्वीप दूसरे हाथ में,
    जग का रूप बदल दे हे माँ,
    कोटि-कोटि हम आज साथ में।
    गूँज उठे जय-हिंद नाद से -
    सकल नगर औ' ग्राम, भारत माँ शत-शत बार प्रणाम।

    2 टिप्‍पणियां:

    1. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई!!!!!

      उत्तर देंहटाएं
    2. भारत माँ को प्रणाम ..

      स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई!!

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz