चिडि़या नहीं हूं मैं - प्रतिभा कटियार

Posted on
  • by
  • अविनाश वाचस्पति
  • in
  • Labels:

  • पढि़ए और बतलाइये
    दैनिक हिन्‍दुस्‍तान में
    आज 8 अगस्‍त 2010
    को प्रकाशित यह कविता
    आपको कैसी लगी ?
    प्रतिभा कटियार जी 
    से आप यहां पर
    मिल सकते हैं।

    इमेज पर क्लिक
    करके पढ़ सकते हैं ।

    3 टिप्‍पणियां:

    1. Pratibhaa jee, kavita achchhee lagee. neh ka neh pakar pighal jaana achchha hai par aajkal neh men bhee milaavat ho rahee hai. vanchak ka neh jaldee pahachaan men naheen aata isliye meraa maanana hai ki neh ke peechhe lapat kaa rahana bhee jaroore hai. isliye aap ko aag hone se inkaar naheen hona chaahiye. ek jaagatee hue aag, jo jab aap chaahen to jala de. sochiye.

      उत्तर देंहटाएं
    2. स्त्रीशक्ति को अभिव्यक्त करती स्तरीय कविता।

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz