जनगणना से जात हटाओ, नहीं तो जनगणना से ही हट जाओ

Posted on
  • by
  • अविनाश वाचस्पति
  • in
  • Labels:


  • (जनगणना से जात हटाओ)
    रविवार को उपवास और धरना

     देश भर में फैले अपने सभी साथियों से मैं अनुरोध करता हूं कि आप कृपया रविवार (18 जुलाई 2010) को अपने शहर या गांव में सार्वजनिक उपवास और धरने का आयोजन करें| यह उपवास आत्म-प्रेरणा और आत्म-शुद्घि के लिए है|
               यह कार्यक्रम सुबह 10 बजे से शाम 6 बजे तक चलाएँ| शहर के जाने-माने लोगों को आमंत्रित करें| वे शाम तक न बैठ सकें तो उद्‍घाटन में ही शामिल हो जाएँ|
                इसकी परवाह न करें कि आपके साथ कितने लोग आ रहे हैं| उपवास के लिए तो एक व्यक्ति ही काफी है| अपने उपवास की सूचना अखबारों और टीवी चैनलों को पहले से दे दीजिए|
                यदि आप पोस्टर और स्टिकर लगवा सकें तो और भी अच्छा !
                 कृपया आयोजन की अगि्रम सूचना अवश्य भेजिए|
    कृपया इस संदेश को अपने सभी मित्रें को फार्वर्ड कर दें|
    आपका
    वेदप्रताप वैदिक

    3 टिप्‍पणियां:

    1. हम भी आपके साथ हैं। निश्चित रूप से जनगणना से जाति हटनी चाहिए।

      उत्तर देंहटाएं
    2. चलिए हम अपने साथियों के साथ शेखपुरा-बिहार मे उपवास करेगें पोस्टर भी चिपकेगा.....

      और साथ ही यह भी कहेंगें की जो भी लोग इसका विरोध कर रहेम है वे आगे आयें सिर्फ़ लिखने से नहीं होगा.

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz