ताली ढंग से तभी बजती है जब दोनों हथेलियां आपस में टकराती हैं

Posted on
  • by
  • अविनाश वाचस्पति
  • in
  • Labels:
  • दोनों को जरूरत है

    आपको जरूरत है

    उनको जरूरत है

    आओ दोनों मिल जाएं

    इसलिए इसे पढ़ जाएं

    जैसा कि मेरठ ब्‍लॉगर मिलन में मिले बंधुओं से विमर्श हुआ के अनुसार ब्‍लॉगहित और जनहित में जारी।

    3 टिप्‍पणियां:

    1. बाकी सब तो ठीके है..पर ई ससुरी डिग्री कहाँ से लाएं? :-(

      उत्तर देंहटाएं
    2. इस पोस्ट के लिेए साधुवाद

      उत्तर देंहटाएं
    3. धन्यवाद जानकारी का...

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz