लुटेरे आज अपने को कमेरे कह रहे हैं...............

Posted on
  • by
  • डॉ० डंडा लखनवी
  • in
  •                             --डॉ० डंडा लखनवी

                    मुक्तक :
        "सुबेरे को  नकारा अब  कुबेरे कह  रहे हैं।
         उजाले में धरा क्या है अंधेरे  कह  रहे हैं।।
         हवस ऐसी महल ख़ुद को बसेरे कह रहे हैं।
         लुटेरे आज अपने  को  कमेरे  कह रहे हैं।।"
                    
                 

    8 टिप्‍पणियां:

    1. कमरतोड़ मेहनत करते हैं
      तो कमेरे ही हुए न
      लूटने के लिए तोड़नी ही पड़ती है
      कमर सदा सामने वाले की।

      उत्तर देंहटाएं
    2. जमाने का दस्तूर कुछ ऐसा ही है। लुटेरे खुद को ही कमेरा बताते हैं।

      उत्तर देंहटाएं
    3. आज की खबर ..लोगों को बेहोश कर चोरी करने का नया तरीका...कूलर में नशीली दवाई डाल कर घर के सारे सदस्यों को बेहोश कर कर चोरी करना

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz