ग़ज़ल : क्या कर गुज़र जाते हैं लोग..............

Posted on
  • by
  • डॉ० डंडा लखनवी
  • in

  •                                  -रवीन्द्र कुमार ’राजेश’

    हौसला करने का हो, क्या कर गुज़र जाते हैं लोग।
    बात रखने के लिए हँस- हँस के मर जाते हैं लोग।।



    हर    मुसीबत   में   खड़े   रहते  थे   वे  चट्टान  से,
    इस ज़रा सी चोट से अब तो बिखर  जाते हैं लोग।।


    इक जु़बाँ और उस जुबाँ की बात का कुछ था वज़न,  
    किस तरह अब बात से अपनी मुकर जाते हैं लोग।।


    कह   दिया  अपना  जिसे,  उसके  सदा  के  हो गए,
    काम  निकला,चल दिए, ऐसे अखर जाते हैं लोग।।


    सामने   सब    कुछ  हुआ  देखा मगर सब चुप रहे,
    वह  इधर मारा गया  लेकिन उधर जाते हैं लोग।।


    टूटता   जाता   है   जीने   का  भरम  ’राजेश’  का,
    आजकल अपने ही साये तक से डर जाते हैं लोग।।


                                ’पद्मा कुटीर’
                                 सी-27, सेक्टर- बी,
                                 अलीगंज स्कीम, लखनऊ-226024
                                 फोन: 0522-2322154

    9 टिप्‍पणियां:

    1. हौसला करने का हो, क्या कर गुज़र जाते हैं लोग।
      बात रखने के लिए हँस- हँस के मर जाते हैं लोग।।

      बहुत उम्दा अभिव्यक्ति है!

      उत्तर देंहटाएं
    2. दो पंक्तियाँ मेरी तरफ से...
      अपनी बात भी कह दी आपने और ज़बान-दराज़ी भी न हुई
      वर्ना करना कुछ और होता है कुछ और कर जाते हैं लोग

      बहुत खूब...
      हाँ नहीं तो...!!

      उत्तर देंहटाएं
    3. हौसला करने का हो, क्या कर गुज़र जाते हैं लोग।
      बात रखने के लिए हँस- हँस के मर जाते हैं लोग।।

      अच्छी पंक्तियाँ बन पड़ी है राजेश जी। खूबसूरत भाव।

      सादर
      श्यामल सुमन
      09955373288
      www.manoramsuman.blogspot.com

      उत्तर देंहटाएं
    4. bhut khub jnaab ghzl ke khususi alfaazon men behr or mitr kaa yeh taalmel hqiqt men dil ko lubhaane vaalaa he bdhaai ho . akhtar khan akela kota rajsthan

      उत्तर देंहटाएं
    5. bhut khub jnaab ghzl ke khususi alfaazon men behr or mitr kaa yeh taalmel hqiqt men dil ko lubhaane vaalaa he bdhaai ho . akhtar khan akela kota rajsthan

      उत्तर देंहटाएं
    6. बहुत अच्छी प्रस्तुति।
      इसे 06.06.10 की चर्चा मंच (सुबह 06 बजे) में शामिल किया गया है।
      http://charchamanch.blogspot.com/

      उत्तर देंहटाएं
    7. bahut khub



      फिर से प्रशंसनीय रचना - बधाई

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz