ब्लोगोत्सव में आज : अल्पना देशपांडे की कलाकृतियाँ

Posted on
  • by
  • ravindra prabhat
  • in
  • Labels:
  • आज दिनांक 14.05.2010 को परिकल्पना ब्लोगोत्सव-२०१० के अंतर्गत चौदहवें दिन प्रकाशित पोस्ट का लिंक-


    इमरोज़ मुबारक हो ! http://www.parikalpnaa.com/2010/05/blog-post_13.html

    एक रुपया कल और आज http://www.parikalpnaa.com/2010/05/blog-post_3329.html

    वर्चुअल दुनिया का प्रभाव मानव मस्तिस्क पर स्थायी होता है - अम्बरीश अम्बर http://utsav.parikalpnaa.com/2010/05/blog-post_14.html

    " बाबू एक पैसा दे दे ..." गानेवाला भिखारी १० पैसे लौटाने लगा और अब ५ के नोट पर भी घूरता है. http://www.parikalpnaa.com/2010/05/blog-post_9930.html

    डा. श्याम गुप्त का आलेख : हिन्दी-- एतिहासिक आइना एवं वर्त्तमान परिदृश्य http://utsav.parikalpnaa.com/2010/05/blog-post_333.html

    हज़ारों हज़ार सिक्के पाकर भी हाथ और मन खाली रह जाते हैं
    http://www.parikalpnaa.com/2010/05/blog-post_14.html


    दीपक मशाल की कविता : वो आतंकवाद समझती है...
    http://utsav.parikalpnaa.com/2010/05/blog-post_348.html

    गुल्लक को फोड़ते उन एक रुपयों की चमक आँखों में उतर आती है
    http://www.parikalpnaa.com/2010/05/blog-post_3370.html

    शोभना चौधरी 'शुभि' की कविता : 'अजीब दस्तूर'
    http://utsav.parikalpnaa.com/2010/05/blog-post_9524.html

    एक का सिक्का जब हथेलियों में धरा जाता था तो क्या होता था पूछते हो तो सुनो .... http://www.parikalpnaa.com/2010/05/blog-post_3140.html

    प्रवीन पथिक की कविता :चीत्कार भरी बाणी में धुन कैसे लाऊं
    http://utsav.parikalpnaa.com/2010/05/blog-post_7343.html

    भारतीय मुद्रा की इकाई बनता रुपया और गुमशुदा होता पैसा(एक व्यंग्य)------ दीपक 'मशाल' http://www.parikalpnaa.com/2010/05/blog-post_244.html

    रेखा श्रीवास्तव की कविता : शब्दों से गर मिटती नफरत !
    http://utsav.parikalpnaa.com/2010/05/blog-post_7140.html

    हिंदी के अनुकूल होती जा रही है आईटी की दुनिया : बालेन्दु शर्मा दाधीच http://shabd.parikalpnaa.com/2010/05/blog-post_14.html

    आत्मा और पैसा : एक दृष्टिकोण http://www.parikalpnaa.com/2010/05/blog-post_1127.html

    अल्पना देशपांडे की कलाकृतियाँ
    http://utsav.parikalpnaa.com/2010/05/blog-post_7397.html

    1 टिप्पणी:

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz